शनिवार और रविवार को तमिलनाडु में आयोजित ब्लाइंड वीमेन क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए 42 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। रिपोर्ट्स के अनुसार, नेत्रहीन महिलाओं के लिए पहला क्रिकेट टूर्नामेंट नागरकोइल, कन्याकुमारी जिले में हुआ। तमिलनाडु की ब्लाइंड वीमेन क्रिकेट टूर्नामेंट ने खिलाड़ियों को खोजने के लिए एक वीकेंड टूर्नामेंट आयोजित किया क्योंकि डिस्ट्रिक्ट लेवल पर कोई ब्लाइंड महिला क्रिकेट टीम नहीं है। पार्टिसिपेंट्स को तीन टीमों में बांटा गया था, जिनमें से प्रत्येक में 14 लोग थे, जिनमें तीन रेप्लसेमेन्ट्स शामिल थे, राज्य भर से।

टीमें रूबी वीमेन वारियर, डायमंड महिला वारियर और एमराल्ड महिला वारियर थीं, जिनमें से प्रत्येक ने 10 ओवर के दो लीग मैच खेले। रविवार को फाइनल मुकाबले हुए।

ब्लाइंड महिलाओं के लिए क्रिकेट इन्क्लूसिव स्पोर्ट्स का रास्ता खुलता है

एक रिपोर्ट के अनुसार, पहले लीग मैच में डायमंड और एमरल्ड एक दूसरे के खिलाफ खड़े हुए। अपनी पहली पारी में एमराल्ड ने तीन विकेट पर 45 रन बनाए। डायमंड ने 8.3 ओवर में एक विकेट के नुकसान पर 46 रन बनाकर नौ विकेट से जीत दर्ज की। डायमंड की बल्लेबाजी ने पहले मैच में डायमंड और रूबी के बीच दो विकेट पर 63 रन बनाए। उन्होंने 25 रन बनाकर तीन विकेट पर 38 रन बनाए।

तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड के जनरल सेक्रेटरी वी महेंद्रन ने कहा कि तीन टीमों की 11 टीमों में से प्रत्येक में चार बी 1 खिलाड़ी (पूरी तरह से अंधे) थे। चार बी 2 खिलाड़ी (पर्शिअली ब्लाइंड ) और तीन बी 3 खिलाड़ी (पर्शिअली साइटेड) हैं।

वी महेंद्रन के अनुसार, 2019 में आयोजित होने वाली ब्लाइंड महिलाओं के लिए पहला नेशनल लेवल का इंटर-स्टेट  क्रिकेट टूर्नामेंट था। दूसरी ओर, तमिलनाडु कम्पीट करने में असमर्थ था, क्योंकि इसमें स्टेट और डिस्ट्रिक्ट लेवल टीम्स की कमी थी ।

“हमारे पास ब्लाइंड्स के लिए 14 रेजिस्टरड डिस्ट्रिक्ट लेवल टीमें हैं। हम उनके बीच टूर्नामेंट कराने के लिए डिस्ट्रिक्ट लेवल टीमों के फार्मेशन की प्रोसेस में हैं। हम इस सप्ताह तमिलनाडु स्टेट टीम को अंतिम रूप देंगे।

Email us at connect@shethepeople.tv