7 January Corona Update: इंडिया में 24 घंटे में कोरोना के मामले हुए 1 लाख पार, पुराना खौफ आया वापस

7 January Corona Update: इंडिया में 24 घंटे में कोरोना के मामले हुए 1 लाख पार, पुराना खौफ आया वापस 7 January Corona Update: इंडिया में 24 घंटे में कोरोना के मामले हुए 1 लाख पार, पुराना खौफ आया वापस

SheThePeople Team

07 Jan 2022


7 January Corona Update: इंडिया में दिसंबर से मामले बढ़ना चालू हुए और फिर लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। दिसंबर में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रोन मिला था और उसके बाद से मामले तेजी से बड़े हैं। पिछले 7 महीने से कोरोना के मामले 1 लाख से कम निकल रहे थे लेकिन आज यह रिकॉर्ड टूट गया और मामले 1 लाख के पार चले गए । इंडिया में आज 7 जनवरी को कोरोना के 1,17,100 मामले सामने आये हैं। इस में से 36,265 मामले महाराष्ट्र से हैं और 20,181 मामले मुंबई से हैं।

लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए चीफ मिनिस्टर उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में लॉकडाउन की परिस्तिथि पर सोच विचार कर रहे हैं। ऐसा स्टेट के हेल्थ मिनिस्टर राजेश टोपे ने कहा है। दिल्ली में मुंबई से कोरोना के कुल मामलों में से 50 % मामले निकल रहे हैं। इसके अलावा यूनियन हेल्थ मिनिस्ट्री ने कोलकाता, चेन्नई और बेंगलुरु को लेकर भी वार्निंग दी है क्योंकि यहाँ भी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं।

जहाँ से शुरू किया था फिर वहीँ पहुंचे हैं हम

कोरोना के मामले बढ़ने से और तीसरी लहर के डर से सभी बड़े बड़े प्लान और एक्टिविटीज कैंसिल हो रही हैं। इसके चलते इस साला के ग्रैमी अवार्ड्स भी कल पोस्टपोन कर दिए गए थे। एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री पर एक बार फिर इसका जोर का फटका पड़ा है। धीरे धीरे पिछले 7 महीनो में चीज़ें नार्मल हुई थी और थिएटर खुले थे लेकिन एक बार फिर अब सब जगह थिएटर बंद किये जा रहे हैं, नाईट कर्फ्यू और लॉकडाउन लगाए जा रहे हैं।

कोरोना को लेकर फिर से आया लोगों के मन में डर

फिर से लोगों के मन में आमदनी को लेकर और बच्चों के मन में पढाई को लेकर डर बैठ गया है। कोरोना के बार बार वापस आने से ऐसा लगता है हम ही एक ही गाड़ी में बस चले जा रहे हैं और एक ही जगह घूम रहे हैं। पिछली साल दूसरी लहर के वक़्त मई जून में लोगों की बुरी हालत हुई थी। हर घर घर में कोरोना था और दवाइयों के लिए और अस्पताल में बिस्तर के लिए लोग तरस गए थे।

कई लोगो साल भर बेरोज़गार रहे थे और बिना किसी आमदनी के जैसे तैसे अपना घर चलाया था। शरीर से टूटजाना और फिर आमदनी भी न होना इंसान को बुरी तरह से तोड़ देता है। अब सिर्फ हम सतर्क रह सकते हैं सिर्फ जरुरत होने पर बाहर निकले और ज्यादा घबराये न। अपने आस पास के लोगों को बच्चों को समझाएं हो क्या रहा है क्या परिस्तिथि है और इस में क्या करना है।

 

 


अनुशंसित लेख