सिर्फ 9 दिनों में Covid-19 को मात देने वाली कर्नाटक में सबसे बुज़ुर्ग पेशेंट 99-वर्षीय महिला है। विक्टोरिया अस्पताल में इमरजेंसी और ट्रॉमा केयर सेंटर से शुक्रवार को मार्सेलिन सलदान्हा घर लौट आई।

सल्दान्हा को अपने 99 वें जन्मदिन पर अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। इस घटना को याद करते हुए उन्होंने कहा, “जब मेरे बेटे ने मुझे बताया कि हमें एक सरकारी अस्पताल में भर्ती होना है, तो मैं बहुत असंतुष्ट हो गयी। मैं 40 साल पहले एक सरकारी अस्पताल में गयी थी और वहां के माहौल और मरीजों की देखभाल मुझे बिलकुल पसंद नहीं आयी थी। लेकिन अब जैसे ही मैं दूसरे सरकारी अस्पताल में गयी तो मेरी सोच बदल गई है। ”

और पढ़िए : मुंबई में जन्मी नर्स को यूके का कोरोना क्रिटिकल वर्कर हीरो अवार्ड मिला

सल्दान्हा को उनके 70 वर्षीय बेटे, 66 वर्षीय बहू और उनके पोते के साथ भर्ती कराया गया था। जहाँ उनके अंदर कोई सिम्प्टम नहीं था , उनके परिवार के सदस्यों को बुखार, खांसी, गले में खराश और थकान थी।

99 वर्षीय, जिन्हे हाइपरटेंशन है, ने उनकी देखभाल करने के लिए नर्सिंग स्टाफ की प्रशंसा की। “मैं खुश हूं कि मैं इन्फेक्शन से मुक्त हूं। लोगों को इन्फेक्शन से घबराना नहीं चाहिए। यहाँ कॉंफिडेंट होना और डॉक्टरों की सलाह का पालन करना, सावधानी बरतना और नियमित रूप से दवाएँ लेना ज़रूरी है।”

“मैं खुश हूं कि मैं इन्फेक्शन से मुक्त हूं” – मार्सेलिन सलदान्हा

मार्सेलिन सलदान्हा के 29 वर्षीय पोते विजय सलदान्हा, जिनको उनके साथ ही डिस्चार्ज मिल गया, ने अपनी दादी के पॉजिटिव रवैये की सराहना की। “वह जबतक अस्पताल में थी, बहुत एक्टिव रही। मेरा भतीजा और भतीजी उनसे फोन पर बात करके उनसे बिजी रखते थे, ”उन्होंने कहा।

स्टेट क्रिटिकल केयर सपोर्ट यूनिट के प्रमुख के.वी. त्रिलोक चंद्रा ने कहा कि सिम्पटम्स न होने के बाद भी उनका हॉस्पिटल आने का डिसिशन उनके फेवर में रहा है। उन्होंने कहा, “वह राज्य की सबसे बुज़र्ग मरीज है। हालांकि उन्हें हाइपरटेंशन था, लेकिन उन्हें कोई और कम्प्लीकेशन नहीं आयी। वरिष्ठ नागरिकों सहित 3,500 उच्च जोखिम वाले मामलों में से, हमने अब तक निगरानी की है, लगभग 1,300 को अभी तक डिस्चार्ज मिल चूका है ।, ”उन्होंने कहा।

कैसे हुआ इन्फेक्शन

द हिंदू से बात करते हुए, मार्सेलिन ने कहा कि वह परिवार की महामारी के दौरान हर संभव सावधानी बरत रही थी। “हममें से कोई भी घर से बाहर नहीं निकला। मैंने टीवी पर बीमारी के बारे में सीखा और सावधानी बरतने के बारे में भी जानकारी हासिल की। हम सभी सावधानियों का पालन कर रहे थे और उसके बावजूद जब मेरी बहू और बेटे को बुखार और गले में जलन हो रही थी, तो हम सभी का टेस्ट किया गया, ”उन्होंने आगे कहा, परिवार में सभी लोगो ने, उनकी पोती के अलावा, COVID-19 के लिए पॉजिटिव टेस्ट किया।

और पढ़िए : इन कोरोनावारियर मॉम्स को हमारा सलाम

Email us at connect@shethepeople.tv