सोमवार की सुबह एयर इंडिया की ऑल महिला कॉकपिट क्रू ने केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु के लिए सीधी (non-stop) उड़ान से लैंडिंग करके इतिहास बनाया। यह किसी भी भारतीय एयरलाइन द्वारा सबसे लंबी नॉन-स्टॉप उड़ान थी, AI ने एक स्टेटमेंट में कहा। 4 महिला पायलटों द्वारा ओप रेट की गयी इस फ्लाईट ने नॉर्थ पोल के ऊपर 16000 km की दूरी तय की।

“आज, हमने न केवल नॉर्थ पोल पर उड़ान भरकर, बल्कि इस उड़ान में केवल महिला पायलटों के होने से भी इतिहास बनाया है । हम इसका हिस्सा बनकर बेहद खुश हैं और गर्व महसूस कर रहे हैं। इस मार्ग ने 10 टन ईंधन की बचत की है, ” कप्तान जोया अग्रवाल ने कहा।

चार पायलटों में से एक, शिवानी मन्हास, जिन्होंने सैन फ्रांसिस्को-बेंगलुरु उड़ान का संचालन किया, ने कहा, “यह एक रोमांचक अनुभव था क्योंकि यह पहले कभी नहीं किया गया है। यहाँ तक ​​पहुंचने में लगभग 17 घंटे लग गए।” चालक दल(crew) में अन्य दो पायलट पापागरी थनमई, कैप्टन आकांशा सोनवरे थे। ये चार पायलट बेंगलुरु के रास्ते में नॉर्थ पोल पर एक उड़ान संचालित करने वाले पहले ऑल-महिला कॉकपिट क्रू भी बने। TOI के अनुसार, वे बोइंग 777 200 (लंबी रेंज या LR) VT-ALG  ‘केरल’ नाम से ऑपेरेट कर रहे हैं।

कप्तान ज़ोया अग्रवाल –

“कैप्टन अग्रवाल के पास 8,000 से अधिक फ्लाइंग अवर और 10 साल से अधिक के B -777 एयरक्राफ्ट और 2,500 से अधिक फ्लाइंग ऑवर्स में कमांड का अनुभव है। “जब मैं एयर इंडिया में शामिल हुई तो मैं मुट्ठी भर महिला पायलटों में से एक थी। हर कोई मुझे एक बच्ची के रूप में देखता था लेकिन सभी बहुत सपोर्टिव थे। हालाँकि, यह एक पुरुष-प्रधान क्षेत्र है। आपको एक लेडी पायलट के रूप में नहीं, बल्कि एक पायलट के रूप में मेहनत करनी होगी क्योंकि यह एक बहुत ही जिम्मेदार काम है”, उन्होंने एक इंटरव्यू में इंडिया टुडे को बताया।

“मैं पिछले 8 वर्षों से कमांड में फ्लाई कर रही हूँ, और यह एक जबरदस्त जर्नी रही है। 2013 में, जब मैं कैप्टन बनी, मेरी माँ फिर रोई लेकिन इस बार बेहद खुशी के साथ“, ज़ोया ने याद किया।

पढ़िए : अंतरा मेहता महाराष्ट्र की पहली और भारत की दसवीं महिला फाइटर पायलट बनीं

Email us at connect@shethepeople.tv