मास्क का मज़ाक उड़ाने वाली महिला की कोविड-19 से मौत, खुद को बताया था 'फ्री थिंकर'

मास्क का मज़ाक उड़ाने वाली महिला की कोविड-19 से मौत, खुद को बताया था 'फ्री थिंकर' मास्क का मज़ाक उड़ाने वाली महिला की कोविड-19 से मौत, खुद को बताया था 'फ्री थिंकर'

SheThePeople Team

24 Sep 2021


वैक्सीन विरोधी महिला की मौत: सोशल मीडिया पर मास्क का मज़ाक उड़ाने और वैक्सीन के खिलाफ प्रचार करने वाली महिला की कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई। महिला को कई जगहों पर और सोशल मीडिया पर वैक्सीन के खिलाफ नारे लगते हुए और पोस्टर-बैनरों के साथ फोटो में देखा जा सकता है। 

वैक्सीन विरोधी महिला की मौत: कोरोना का था संक्रमण 

कैलिफोर्निया निवासी क्रिस्टन लॉरी को सोशल मीडिया पर कोविड-19 से बचाव के लिए मास्क और वैक्सीन के खिलाफ नारे लगाते और फोटो में देखा गया है। फेसबुक पर उन्होंने खुद के 'फ्री थिंकर' होने का दावा किया था। उनकी अचानक मौत ने वैक्सीन विरोधी समुदाय को हैरान कर दिया है। वैक्सीन के खिलाफ नजरिए का प्रचार करने में मुखर 40 वर्षीय वैक्सीन विरोधी महिला अपने पीछे चार बच्चों को छोड़ गई।

वैक्सीन विरोधी महिला की मौत के बाद, सोशल मीडिया का एक 'जोफंडमी' नाम के एक पेज ने महिला के अंतिम संस्कार के खर्चों को उठाने की पेशकश की है। वहीं इस पेज से माध्यम से महिला के लिए अब तक कुल 15 हजार 150 डॉलर से ज्यादा पैसों को इकठ्ठा किया जा चूका है। पेज के निर्माता और आयोजक ने महिला की अचानक मौत पर दुःख जताया और फंड के पैसों को महिला के बच्चों के भविष्य के लिए सुरक्षित करने की बात कही।

आयोजक जनेट वलोट्टन ने लॉरी की मौत पर शोक जताते हुए कहा कि, "उनकी मौत ने हमारी जिंदगियों में बहुत बुरी तरह एफेक्ट किया है और उसे कभी नहीं भूलाया जा सकेगा, लेकिन उनकी बहुत ज्यादा कमी खलेगी। अगर आप उनके अंतिम संस्कार के खर्च में भागीदारी करना चाहते हैं, तो इसकी बहुत सराहना की जाएगी। जो कुछ भी रकम बच गई है, उसे लॉरी के बच्चों की देखभाल के लिए बचत खाते में भेज दिया जाएगा."

मौत से पहले, महिला की बहन ने प्रार्थना के लिए की थी अपील

गौरतलब है कि वैक्सीन विरोधी महिला की मौत से पहले, उनकी बहन ने सभी शुभचिंतकों और समर्थकों से महिला के ठीक हो जाने के लिए प्रार्थना करने को कहा था।

फेसबुक के जरिये उन्होंने अपील की थी कि, "मेरी बहन लॉरी हॉस्पिटल में कोविड और न्यूमोनिया के खिलाफ अपनी जिंदगी की जंग लड़ रही है। मेरी बहन की लंबी जिंदगी बची हुई है। हमें तुम्हारी जरूरत है बहन। तुम्हारे बच्चे तुमसे बहुत प्यार करते हैं और तुम्हारी कमी बहुत ज्यादा महसूस होती है। मैं टीकाकरण पर तुम्हारी राय की परवाह नहीं करती हूं। ये राजनैतिक मामला नहीं है। मेरी सभी शुभचिंतकों से एक ही अपील है और मै कामना करती हूं कि मेरी बहन को इस मुसीबत से निकलने में मदद मिलेगी।"

इसे बाद लॉरी के रिश्तेदारों ने खुद ही सोशल मीडिया की मदद से लॉरी के मौत की पुष्टि की। उन्होंने लिखा कि, "प्यारी भतीजी कोविड के खिलाफ अपनी लड़ाई हार चुकी है" इस तरह कि ख़बरों से एक बात तो साफ़ है कि वैक्सीन पर मास्क का विरोध करते करते महिला ने कोरोना संक्रमण से ही अपनी जान गवां दी।

फीचर इमेज क्रेडिट: सोशल मीडिया 


अनुशंसित लेख