भावना कंठ गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनीं। यह खबर सोमवार को अधिकारियों ने दी। भावना अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह जैसी अन्य फाइटर पायलटों के साथ डेब्यू करेंगी। इसके अलावा, यह तिकड़ी 2016 में भारतीय वायु सेना (IAF) की  पहली फाइटर पायलट बन गई। भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने खुद उन्हें कमीशन दिया था।

भावना कंठ 26 जनवरी को लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट, लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर और सुखोई -30 लड़ाकू विमान के मॉक-अप का प्रदर्शन करने में शामिल होंगी। “मैं टेलीविजन पर रिपब्लिक डे परेड देखती थी और अब मैं इसका हिस्सा बनने जा रही हूं। यह मेरे लिए गर्व की बात है” भावना ने कहा।

भावना कंठ के बारे में कुछ और जानकारी

दरभंगा, बिहार से आई भावना कंठ का जन्म रिफाइनरी टाउनशिप, बेगूसराय में हुआ था। उनके पिता एक इंजीनियर थे, जो रिफाइनरी टाउनशिप में IOCL में काम करते थे। वह बरौनी रिफाइनरी डीएवी पब्लिक स्कूल में पढ़ी थीं, और उन्होंने बेंगलुरु में बीएमएस कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग से मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स में अपनी इंजीनियरिंग पूरी की।

कंठ जो हमेशा से उड़ान भरने का शौक रखती थी, उन्होंने एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट क्लियर किया और एयरफोर्स का हिस्सा बनी। उन्होंने नवंबर 2017 में फाइटर स्क्वाड्रन में शामिल होने का फैसला किया और यहां तक ​​कि मार्च 2020 में अपने दम पर मिग -21 बाइसन को उड़ाया।

और पढ़ें: आरोही पंडित अटलांटिक और पैसिफिक महासागर को पार करने वाली पहली महिला पायलट है

इससे पहले, भवना ने जून 2016 में हैदराबाद के हकीमपेट वायु सेना स्टेशन में किरण इंटरमीडिएट जेट ट्रेनर्स पर छह महीने का फेज सेकंड ट्रेनिंग पूरा किया था। वह फिर डंडीगल में वायु सेना अकादमी में फ्लाइंग ऑफिसर बन गईं।

भावना अभी बीकानेर के एक एयरबेस में काम कर रही है और MiG -21 बाइसन फाइटर plane उड़ाती है।

उड़ान के अलावा, वह बैडमिंटन और वॉलीबॉल जैसे खेलों में शामिल होना पसंद करती हैं। उन्हें ट्रैवेलिंग, स्विमिंग और फोटोग्राफी करना भी पसंद है।

उपलब्धियां

9 मार्च 2020 को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया।

भावना कंठ पहली महिला पायलट भी बन गई हैं जो कॉम्बैट मिशंस का संचालन करेंगी।

और पढ़ें: शहीद पायलट समीर अबरोल की पत्नी गरिमा भारतीय वायु सेना में एक फ्लाइंग ऑफिसर बनी

Email us at connect@shethepeople.tv