डिफेंस पीआरओ शिलॉन्ग के मुताबिक, पिछले साल मिराज 2000 फाइटर प्लेन क्रैश में शहीद हुए स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल की पत्नी गरिमा अबरोल ने शनिवार को एयरफोर्स एकेडमी से अपनी ट्रेनिंग पूरी की। वह अब एक भारतीय वायु सेना अधिकारी बन गयी हैं।

image

फ्लाइंग ऑफिसर गरिमा अबरोल डंडीगल स्थित वायु सेना अकादमी से पास आउट हुईं।

अब्रोल को फ्लाइंग और ग्राउंड ड्यूटी ब्रांचेज के ११४ अन्य फ्लाइट कैडेट्स के साथ “प्रेजिडेंट कमीशन से सम्मानित किया गया.  वह 21 ग्रजुएटिंग ऑफिसर्स में से एक थीं।

“मैं वास्तव में देखना चाहती हूं कि उनके नज़रिये से जीवन कैसा दिखता है। विरासत को आगे बढ़ाना है। वही यूनिफार्म पहनने से मुझे निरंतर स्ट्रांग बने रहने का एक मकसद भी मिलता है, ” – अबरोल

“उन्होंने अपने शहीद पति को श्रद्धांजलि के रूप में भारतीय वायु सेना में शामिल होने का फैसला किया। अपने पति की मृत्यु के पांच महीने बाद, जुलाई 2019 में उन्होंने सर्विस सिलेक्शन बोर्ड (SSB) के इंटरव्यू को क्रैक किया और डंडीगल में अकादमी में शामिल हो गईं। ” उनका सपना था वायु सेना में शामिल होना । हम उसकी उपलब्धि पर खुश हैं लेकिन यह भी जानते हैं कि समीर वहां नहीं है, ”सुषमा अबरोल, समीर की मां, ने कहा कि गरिमा बरेली में तैनात होंगी।

“मैं वास्तव में देखना चाहती हूं कि उनके नज़रिये से जीवन कैसा दिखता है। विरासत को आगे बढ़ाना है। वही यूनिफार्म पहनने से मुझे निरंतर स्ट्रांग बने रहने का एक मकसद भी मिलता है, ” – अबरोल ने पांडे के अनुसार IAF में शामिल होने के अपने फैसले के बारे में कहा।

पिछले साल बेंगलुरु में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) एयरपोर्ट पर टेकऑफ के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो जाने के बाद स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल की मौत हो गई थी। वह स्क्वाड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी के साथ विमान का सह-संचालन कर रहे थे, जिन्होंने दुर्घटना में अपनी जान गंवा दी।

पढ़िए : शांति तिग्गा: आर्मी की पहली महिला जवान

Email us at connect@shethepeople.tv