टी एंड सी | गोपनीयता पालिसी

संचालित द्वारा Publive

फ़ीचर्ड ब्लॉग न्यूज़

Bindu Ammini Assaulted Again In Kozhikode: 2019 में सबरीमाला में प्रवेश करने वाली बिंदु अम्मिनी एक्टिविस्ट पर कोझीकोड में फिर से हमला हुआ

Bindu Ammini Assaulted Again In Kozhikode: 2019 में सबरीमाला में प्रवेश करने वाली बिंदु अम्मिनी एक्टिविस्ट पर कोझीकोड में फिर से हमला हुआ
SheThePeople Team

06 Jan 2022


Bindu Ammini Assaulted Again In Kozhikode: बिंदु अम्मिनी, जो 2019 में सबरीमाला में प्रवेश करने और प्रार्थना करने वाली 10 से 50 आयु ग्रुप की पहली महिला बनीं, लकिन एक बार फिर उन पर फर हमला हुआ। बुधवार को कोझीकोड बीच पर एक अजनबी आदमी ने हमला किया।

हमले के विजुअल सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं

दलित एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया, कि जब वह एक कोर्ट केस के सिलसिले में कोझीकोड नार्थ बीच पर पहुंची, तो उस पर अजनबी आदमी ने हमला किया। हमले के विजुअल सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं, जिसमें देखा गया की वह आदमी अम्मिनी को मार रहा था।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, वेल्लयिल पुलिस ने घटना से रिलेटेड इंडियन पीनल के अनुसार धारा 509 और 323 के तहत मामला दर्ज किया है। अम्मिनी ने यह भी दावा किया, कि घटना से ठीक पहले, लोगों के एक ग्रुप ने पूछा कि, क्या वह बिंदू अम्मिनी है, जो सबरीमाला गई थी और उसका मजाक भी उड़ाया था। अम्मिनी ने कहा, कि हमलावर ने मुझे धक्का दिया और मेरा सिर एक कंक्रीट स्लैब से टकराया, मौके पर मौजूद एक व्यक्ति ने मोबाइल फोन पर हमले के सीन को शूट किया।

Bindu Ammini Assaulted Again In Kozhikode: एक्टिविस्ट पर इससे पहले कई हमले हुए

एक्टिविस्ट ने आरोप लगाया, कि बिना किसी उकसावे के बावजूद उन पर हमला किया गया और पुलिस ने उनकी शिकायत के आधार पर घटना की जांच शुरू कर दी गई है। पुलिस ने कहा, कि उन्होंने मामला दर्ज कर लिया है और सीसीटीवी फुटेज की जांच के बाद हमलावर की तलाश की जा रही है।

अम्मिनी ने कहा, कि यह उन पर पहला हमला नहीं है और अम्मिनी ने हिंदू आर्गेनाइजेशन पर उन्हें निशाना बनाने का आरोप लगाया। एक तेज रफ्तार ऑटोरिक्शा ने उन्हें टक्कर मार दी, जिसके बाद उन्हें पिछले महीने अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन पुलिस ने इसे एक दुर्घटना बताया। इससे पहले, एक्टिविस्ट पर दो अनजान लोगों ने एक बस में हमला किया था और दोनों ने उसके चेहरे पर मिर्च और काली मिर्च छिड़क दी थी।

मैं अपने एक वकील से सलाह लेने के लिए बीच पर पहुंची। तभी अचानक एक व्यक्ति आया और उसने मेरे 2 व्हीलर को ब्लॉक कर दिया और गाली-गलौज करने लगा और मुझ पर वार करने लगा। कुछ लोगों के बीच-बचाव करने पर वह भाग गया। यह एक प्लैनेड हमला था, ”अम्मिनी कहा।

वह आदमी एक एक्टिव RSS मेंबर है

"वह एक अनजान आदमी नहीं है। वह एक एक्टिव आरएसएस मेंबर है। उसका सरनेम कुट्टन है। मेरे पास उस व्यक्ति के बारे में अधिक जानकारी है, लेकिन केरल पुलिस ने उसे पहचानने से इनकार कर दिया। यह पहली बार नहीं है जब मुझ पर हमला किया गया है। इससे पहले, पर 18 दिसंबर को एक ऑटो-रिक्शा चालक ने जानबूझकर मुझे मारा था। इससे पहले, कुछ गुंडों ने मुझे चेहरे पर मारा था। मैंने इन हमलों के बारे में कई शिकायतें दर्ज की हैं, लेकिन केरल पुलिस हमेशा आरोपियों को बचाने की कोशिश करती है, ”अम्मिनी कहा।

केरल पुलिस ने मेरी दलित आइडेंटिटी के कारण अपनी सुरक्षा वापस ले ली': बिंदु अम्मिनी

अम्मिनी ने कहा, कि केरल में महिलाएं, एस्पेशल्ली ट्राइबल और बैकवर्ड क्लासेस केरल में आरएसएस के डोमिनान्स के कारण सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने कहा, "लेकिन मैं डरती नहीं हूं। मैं इन लोगों का सामना करने के लिए तैयार हूं। मेरी सेल्फ डिफेन्स मेरे हाथों में है।"





अनुशंसित लेख