Advertisment

ब्लू कॉर्नर नोटिस क्या है? केरल में दुल्हन पर हमला करने के आरोप में व्यक्ति को मिला नोटिस

केरल में एक नवविवाहिता के साथ दहेज उत्पीड़न का मामला सामने आया है। आरोप है कि पति ने पत्नी पर हमला किया और हत्या का प्रयास किया। पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए जा रहे हैं। जानिए केरल महिला आयोग (KWC) ने क्या आरोप लगाए हैं।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Marriage myths

Representative Image.

Dowry Harassment Case In Kerala: केरल से एक बार फिर दहेज उत्पीड़न के खिलाफ जारी संघर्ष को उजागर करने वाली घटना सामने आई है। विवाह के ठीक एक सप्ताह बाद ही एक नवविवाहिता महिला को कथित रूप से उसके पति द्वारा क्रूर हमले और हत्या के प्रयास का सामना करना पड़ा। रिपोर्ट्स में केरल पुलिस पर शुरूआत में मामले की गंभीरता की अनदेखी करने का आरोप लगाया गया है। हालांकि, सार्वजनिक आक्रोश के बाद, राज्य पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के अपने प्रयासों को तेज कर दिया है।

Advertisment

ब्लू कॉर्नर नोटिस क्या है? केरल में दुल्हन पर हमला करने के आरोप में व्यक्ति को मिला नोटिस

आरोपी फरार और ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी 

आरोपी राहुल पी गोपाल के जर्मनी भागने की आशंका है, जहां वह कार्यरत है। कोझीकोड जिले में उनकी पत्नी के साथ मारपीट के आरोपों ने उनके खिलाफ गहन जांच को प्रेरित किया है। गुरुवार को, कोझीकोड पुलिस विभाग के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पुष्टि की कि केरल पुलिस ने विदेश मंत्रालय के माध्यम से औपचारिक रूप से इंटरपोल से सहायता का अनुरोध किया है। इसके बाद, इंटरपोल ने 16 मई को संदिग्ध व्यक्ति के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया, जो आरोपी को गिरफ्तार करने में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

Advertisment

ब्लू कॉर्नर नोटिस क्या है? 

अंतर्राष्ट्रीय पुलिस सहयोग संगठन इंटरपोल, किसी आरोपी के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी करने के बाद, अपने सहयोगी देशों से किसी व्यक्ति की पहचान के बारे में अतिरिक्त जानकारी एकत्र करता है। यह किसी व्यक्ति की पहचान, स्थान या किसी अपराध से संबंधित गतिविधियों के बारे में अतिरिक्त जानकारी एकत्र करने के लिए एक वैश्विक चेतावनी है। यह नोटिस आरोपी की तलाशी के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

मीडिया का ध्यान और पुलिस की प्रतिक्रिया

Advertisment

यह मामला तब व्यापक रूप से सुर्खियों में आया जब कथित पीड़िता और उसके परिवार ने 14 मई को विभिन्न टेलीविजन चैनलों पर आरोपी के खिलाफ आवाज उठाई। उनके अनुसार, गोपाल नाम के आरोपी ने शादी के एक हफ्ते बाद ही दहेज विवाद के बाद अपनी पत्नी के साथ बेरहमी से मारपीट की और उसे मारने का प्रयास किया।

जवाब में, आरोपी के परिवार ने दहेज मांगने में किसी भी तरह की संलिप्तता से इनकार किया। आरोपी की मां ने कहा कि उनकी बहू उनके साथ रहने से इनकार कर दी, जिसके कारण नवविवाहितों के बीच बहस हो गई। उसने दावा किया, "हमने कभी दहेज नहीं मांगा, क्योंकि हम इसमें विश्वास नहीं करते।"

पुलिस जांच में देरी का आरोप 

Advertisment

पीड़िता का आरोप है कि मोबाइल चार्जर केबल से गला घोंटने के उसके पति के प्रयास का विवरण देने वाली उसकी शिकायत के बावजूद, पांथीरनकव पुलिस ने मामले को हत्या के प्रयास के रूप में दर्ज नहीं किया। इसके अतिरिक्त, उसका परिवार न्याय दिलाने के बजाय "मामले को सुलझाने" की कोशिश करने का पुलिस पर आरोप लगाता है। 

मामले की गंभीरता को कम करने का आरोप

केरल महिला आयोग (केडब्ल्यूसी) ने मामले की जांच में कथित देरी और लापरवाही के लिए राज्य पुलिस की कड़ी आलोचना की है। आयोग ने यह भी सवाल उठाया है कि पीड़िता की शिकायत के बावजूद पुलिस ने शुरुआत में मामला दर्ज क्यों नहीं किया।

KWC का आरोप है कि पुलिस ने शुरूआत में मामले को गंभीरता से नहीं लिया और "मामले को सुलझाने" का प्रयास किया। आयोग का मानना है कि इस तरह की लापरवाही दहेज उत्पीड़न के मामलों में पीड़ितों के लिए हतोत्साहजनक हो सकती है और उन्हें न्याय प्राप्त करने से रोक सकती है।

KWC ने राज्य पुलिस को मामले में शामिल अधिकारियों के खिलाफ उचित कार्रवाई करने और भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए कदम उठाने की मांग की है। आयोग ने यह भी कहा है कि वह मामले की निगरानी करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि पीड़िता को न्याय मिले।

Harassment dowry Dowry harassment
Advertisment