गीता फोगाट की रेसलिंग में वापसी : कॉमनवेल्थ गेम्स में कुश्ती में गोल्ड मैडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला, गीता फोगाट ने बुधवार को घोषणा की कि वह फिर से wrestling में वापसी कर रही है। गीता 2 साल के अंतराल के बाद कुश्ती के मैदान में फिर से नज़र आएगी।

2 साल के बाद गीता फोगाट की रेसलिंग में वापसी। उन्होंने अपने ट्विटर अकॉउंट पर घोषणा की कि उसका मुख्य उद्देश्य अब टोक्यो ओलंपिक खेलों (23 जुलाई, 2021) के लिए क्वालीफाई करना है और वह “नए लक्ष्यों को प्राप्त करने” के लिए हार्डवर्क करेगी। गीता ने ट्वीट किया, “2 साल के बाद अपने प्यार और जुनून में वापस जा रही हूँ … मुझे विश्वास है कि आप मुझे अपना प्यार और आशीर्वाद देते रहेंगे … चलिए नए लक्ष्य हासिल करना शुरू करते हैं … धन्यवाद @FederationWrest और @Media_AI मुझे इस आशंका के लिए #wrestling (sic)”

रेसलर गीता गर्भावस्था और बच्चे के कारण दो साल तक कुश्ती से दूर रही :

स्टार एथलीट को आखिरी बार 2019 में कुश्ती मैट पर प्रतिस्पर्धा करते देखा गया था और पिछले साल कोरोनोवायरस महामारी के दौरान उसने आगामी बड़े खेलों की तैयारी के लिए कुछ समय लिया।उन्होंने अपनी maternity break के बारे में बात करते हुए बताया था कि लीव के बाद रेसलिंग में वापस जाना आसान नहीं था। 32 वर्षीय रेसलर गीता गर्भावस्था और बच्चे के कारण दो साल तक कुश्ती से दूर रही और अब वह वापसी करना चाहती है।

“मैंने कुछ समय पहले फिटनेस ट्रेनिंग शुरू किया था, लेकिन डॉक्टर ने मुझे सलाह दी कि मुझे अपने बच्चे को खिलाना होगा। हम पहलवानों को लाइट वर्कआउट करने की आदत नहीं है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से, मैंने ये करना शुरू कर दिया है। एक opponent के बिना ट्रेनिंग मुश्किल है, इसलिए मैं घर पर जो भी exercises संभव है कर रही हूँ, “गीता ने पिछले साल द स्पोर्टलाइट में एक ऑनलाइन चैट शो के दौरान कहा था।

गीता फोगाट ने रेसलिंग में खूब नाम कमाया है :

गीता ने 2010 में Commonwealth Games में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनकर इतिहास रचा। वह 2012 विश्व चैंपियनशिप में ब्रोंज मैडल जीतने के साथ-साथ एशियाई चैंपियनशिप में दो ब्रोंज मैडल भी जीत चुकी हैं। वह 2012 में ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली भारत की पहली महिला पहलवान थीं।

Email us at connect@shethepeople.tv