India Sends Medicines To Afghanistan: इंडिया ने अफ़ग़ानिस्तान को दवाइयां भेज कर सहायता की

India Sends Medicines To Afghanistan: इंडिया ने अफ़ग़ानिस्तान को दवाइयां भेज कर सहायता की India Sends Medicines To Afghanistan: इंडिया ने अफ़ग़ानिस्तान को दवाइयां भेज कर सहायता की

SheThePeople Team

11 Dec 2021

India Sends Medicines To Afghanistan: अफ़ग़ानिस्तान पर 15 अगस्त को तालिबान ने कब्ज़ा कर लिया था उसके बाद से ही वहां के हालात कुछ ठीक नहीं हैं। अभी काबुल से दिल्ली एक फ्लाइट आयी थी जिस में 10 इंडियन और 94 अफ़ग़ान इंडिया आए थे। इस फ्लाइट की वापसी के वक़्त इंडिया ने अफ़ग़ानिस्तान कई जरुरी दवाइयां भेजी हैं। इस में 1.6 मीट्रिक टन दवाई भेजी गयी हैं।

India Sends Medicines To Afghanistan


अफ़ग़ानिस्तान के इंडिया में मौजूद एम्बेसडर ने फरीद ममुंदज़े ने कहा कि यह दवाइयां इंडिया की तरफ से अफ़ग़ानिस्तान के लिए तोहफा है। इस में 1.6 मीट्रिक टन दवाई भेजी गयी हैं। यह दवाइयां वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइज़शन के लोगों को थमा दी जाएगी ऐसा मिनिस्ट्री ऑफ़ एक्सटर्नल अफेयर्स ने बताया है।

अफ़ग़ानिस्तान ने कितने लोग इंडिया आ चुके हैं?


इसके अलावा इंडिया हर तरीके से अफ़ग़ानिस्तान की मदद करने की कोशिश कर रहा है जबसे वहां तालिबान का आतंक बड़ा है। जब तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान पर कब्ज़ा किया था तब इंडिया ने ऑपरेशन देवी शक्ति लॉच किया था। इस ऑपरेशन के अंतर्गत तालिबान के चंगुल से बचाकर अफ़ग़ान के और इंडिया के लोगों को इंडिया में लाया जाएगा। इस ऑपरेशन के अंडर में अभी तक 669 लोगों को वहां से इंडिया लाया गया हैं। इन में से 448 इंडियन थे और 206 अफ़ग़ान के लोग थे।

अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं के क्या हालात हैं?


तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान पर 15 अगस्त को कब्ज़ा कर लिया था और उसके बाद से यह सब कानून वहां के बदलते जा रहे हैं खास तौर पर महिलाओं से जुड़ीं। महिलाओं के खुले आम घूमने से लेकर वो क्या पहनती हैं, कैसे पड़ते हैं, और कैसे महिलाएं अपने आप रिप्रेजेंट करती हैं तालिबान सबके खिलाड़ खड़े रहते हैं।

लड़कियों और युवतियों को घर पर रहने का आदेश देने के तालिबान के इस फैसले ने, अफगानिस्तान को दुनिया का एकमात्र ऐसा देश बना दिया जिसने अपनी आधी आबादी को शिक्षा प्राप्त करने से रोक दिया। इसके साथ, राजधानी काबुल के मेयर ने नगर निगम की महिला कर्मचारियों को भी घर पर रहने को कहा, जब तक कि उनकी नौकरी कोई पुरुष नहीं भर सकता।

अनुशंसित लेख