केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा एकमात्र भारतीय हैं, जिन्हें मंगलवार को यूनाइटेड नेशंस पब्लिक सर्विस डे (United Nations Public Service Day) में स्पीकर के रूप में आमंत्रित किया गया था। शैलजा उन लोगों में से थीं जिन्होंने कोरोनवायरस से लड़ने और फैलने से रोकने के लिए सम्मानित किया गया । यूनाइटेड नेशंस सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस और बाकी टॉप यूनाइटेड नेशंस डिग्निट्रीज़ वेबिनार के लिए एक साथ आए थे ताकि वे महामारी से लड़ने के लिए अपनाई जाने वाली रणनीतियों के बारे में बात कर सकें।

image

वेबिनार जो यूनाइटेड नेशंस के वेब टीवी पर ब्रॉडकास्ट होता है, जिसका उद्देश्य पब्लिक सर्वेन्ट्स को सम्मानित करना है जो फ्रंटलाइन पर कोविद -19 स्थिति का सामना कर रहे हैं।

केरल की स्वास्थ्य, सामाजिक न्याय और महिला और बाल विकास मंत्री, शैलजा ने निपा वायरस और 2018 और 2019 में हुई दो विनाशकारी बाढ़ से निपटने के अनुभवों पर बात की और कहा कि राज्य के लोग कोरोनोवायरस के प्रकोप को कैसे पहचान और कण्ट्रोल कर सकते है। उन्होंने हेल्थ के महत्व के बारे में भी बताया।

और पढ़ें: जानिए कैसे केरल की हेल्थ मिनिस्टर – के. के शैलजा कोरोनावायरस से निपट रहीं हैं

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट द्वारा, शैलजा ने कहा, “केरल में पब्लिक हेल्थ सिस्टम पर पूरी ताकत से, हमने अपने पूरे नेटवर्क को एक्टिव कर दिया है, जो कि कोविद -१९ से सम्बंधित एक वायरस पर सावधानी रखने के लिए डब्ल्यूएचओ के बयान के अगले दिन से ही एक्टिव कर दिया गया है।”

“जब वुहान में कोविद -19 मामलों की सूचना मिली, ठीक उसी समय से, केरल WHO के ट्रैक में आ गया और हर स्टैण्डर्ड प्रोटोकॉल और इंटरनेशनल नॉर्म्स का पालन किया गया और इसलिए, हम वायरस के बढ़ने की दर को 12.5 प्रतिशत से नीचे रखने में सक्षम हुए और मृत्यु दर 0.6 प्रतिशत है। ” शैलजा ने कहा।

कोरोनावायरस से लड़ाई

63 वर्षीय मंत्री को 14 जिलों में रैपिड रिस्पांस टीम और कण्ट्रोल रूम्स स्थापित करने के लिए जाना जाता है जो कोरोनावायरस को नियंत्रित करने के लिए पहला कदम है। देश में लॉकडाउन में जाने से दो दिन पहले राज्य ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा दी। उनके मार्गदर्शन में, भारत भर में गवर्नमेंट रन-कैम्प्स में शरण लेने जा रहे 6.3 लाख प्रवासी श्रमिकों में से, केरल में लगभग आधे – 47 प्रतिशत की देखभाल की गई, जिन्हें बाद में चार्टर ट्रेनों के माध्यम से धीरे-धीरे उनके घर भेजा गया, द वायर ने बताया।

और पढ़ें: इस मुश्किल समय में हमें जैसिंडा अर्डर्न जैसे लीडर्स की बहुत ज़रूरत है

Email us at connect@shethepeople.tv