ममता बनर्जी ने कहा कि वो निबांना की सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग कण्ट्रोल रूम में रहकर साइक्लोन यास को मॉनिटर करेंगी। इन्होंने कहा कि वो सभी डीएम को चेतावनी दे चुकी हैं और पूरी तैयारियां कर ली हैं। साइक्लोन 26 मई की शाम से ओडिसा और वेस्ट बंगाल के तट को हिट करेगा।

ममता बनर्जी का साइक्लोन यास को लेकर क्या कहना है ?

स्थिति को संभालने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए, ममता बनर्जी ने कहा कि 4,000 शेल्टर होम तैयार किए गए हैं और दस लाख लोगों को निकाला जाना है। उन्होंने कहा कि 51 आपदा प्रबंधन दल, 1000 बिजली और 400 अस्थिर रेस्टोरेशन टीमों का गठन किया गया है। बनर्जी ने आगे कहा कि 20 जिले गंभीर रूप से प्रभावित होंगे।

सोमवार को उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस की। बैठक में शाह ने उन राज्यों की तैयारियों पर चर्चा की, जिनके चक्रवात से प्रभावित होने की आशंका थी। बैठक में ओडिशा और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी मौजूद थे। बनर्जी ने आश्वासन दिया कि यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक सावधानी बरती गई है कि जीवन और संपत्ति का कम से कम नुकसान हो।

पुलिस कई समय से इस साइक्लोन कि तैयारी में लगी है और सभी रिस्क वाली जगह से लोगों को दूर कर रही है। ममता का कहना है कि सर्कार वेस्ट बंगाल के प्रति पार्शियल है और सिर्फ 400 करोड़ का बी बजट दिया गया है बल्कि वेस्ट बंगाल ओडिसा और अंदर प्रदेश दोनों से बड़ा है।

साइक्लोन यास से जुडी जरुरी बातें –

1. साइक्लोन यास से अगले 72-120 घंटों में बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक दबाव का क्षेत्र बनने की भी काफी संभावना है।

2. केंद्र ने आंध्र प्रदेश, ओडिशा, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के तटीय क्षेत्रों में भी चेतावनी जारी की है।

3. केंद्र ने कहा समुद्र तट क्षेत्रों को स्वास्थ्य सुविधाओं और आवश्यक दवाओं और आपूर्ति के साथ तैयार रहना चाहिए

4. साइक्लोन यास धीरे धीरे पास आता जा रहा है और ये 26 मई को ओडिसा और वेस्ट बंगाल को पार करेगा।

5. ओडिशा सरकार सभी आवश्यक सावधानी बरत रही है और भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल से आगामी स्थिति के लिए तैयार रहने का आग्रह किया है।

6. रिपोर्ट्स के मुताबिक, यहां अंडमान और निकोबार आइलैंड और ईस्ट कोस्ट के जिलों में भारी बारिश हो सकती है, जिससे अंदर वाली बाढ़ आ सकती है।

Email us at connect@shethepeople.tv