ब्लॉग

शांति तिग्गा: आर्मी की पहली महिला जवान

Published by
Katyayani Joshi

शांति तिग्गा कौशल और टफनेस की एक्सएम्पल थीं जो अपने पुरुष कॉउंटेरपार्ट्स को पीछे छोड़ टेरीटोरियल आर्मी में शामिल हुई थीं। एक विधवा जिन्होंने अपने पति को 35 साल की उम्र में खो दिया था, रिक्रूटमेंट कैम्प में हिस्सा लेकर वो अपने फायरिंग स्किल्स में पहले नंबर पर आने वाली महिला बनीं।

उनको पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा उनके एक्स्ट्रा आर्डिनरी कामों के लिए सम्मानित भी किया गया था। शांति पश्चिम बंगाल से थीं। वो 13 मई 2013 को सदिंग्ध परिस्थितियों में मृत पायी गयीं।

जेंडर, मदरहूद सबके बैरियर्स तोड़े

शांति 35 साल की महिला थी जो 2 बच्चों की मां थी जब उन्होंने आर्मी जॉइन की। उन्हें फिट करार दिया गया और उन्होंने ये फायरिंग एक्सरसाइज और ड्रिलिंग में इंस्टिट्यूट में टॉप करके प्रूव भी किया। उम्र, जेंडर, मदरहुड के बैरियर्स को पीछे छोड़कर वो भारत की 125 साल पुरानी आर्मी की पहली महिला जवान बनीं।

शुरुआती ज़िन्दगी

डिस्ट्रिक्ट जलपैगुरी में जन्म लेने वाली शांति शेड्यूल्ड ट्राइब से थीं। उस समय बाल विवाह काफी प्रचलित(prevalent) था। शांति की 17 साल की उम्र में शादी कर दी गयी थी और जल्द ही उनके दो बच्चे भी होगये। वो एक हॉउसवाइफ थीं। चीजें बदल गईं जब उनके पति का 2005 में निधन होगया।

रेलवे में नौकरी फिर टेरीटोरियल आर्मी के लिए वालंटियर

उनको रेलवे द्वारा कंपनसेशन के रूप में जॉब आफर की गई और उन्होंने पॉइंट्स मैन के रूप में काम करना शुरू किया। वो अपने डिस्ट्रिक्ट जलपैगुरी के चलसा रेलवे स्टेशन पर पोस्टेड थीं। शांति ने 2013 में टेरीटोरियल आर्मी के लिए वालंटियर किया।

शांति तिग्गा का हमेशा से सपना रहा था कि वो आर्मी जॉइन करें ओलिव ग्रीन यूनिफार्म पहनें और गन्स चलाएं।1.3 मिलियन शक्तिशाली डिफेंस फ़ोर्स में तिग्गा पहली महिला जवान बनीं। उन्होंने अपने बैच में टॉप किया और रिक्रूटमेंट में सारे पुरूष कॉउंटेरपार्ट्स को पीछे छोड़ दिया।

उपलब्धियां

तिग्गा ने अपने सारे टेस्ट्स क्लियर कर के 969 रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट ऑफ टेरीटोरियल आर्मी 2011 में जॉइन की। फिजिकल टेस्ट में उन्होंने सबको पछाड़ दिया।

रिपोर्ट्स के अनुसार शांति ने 1.5 किलोमीटर की रेस में बाकी पुरुषों से 5 सेकंड पहले ही रेस खत्म कर दी थी। उन्होंने 50 मीटर की रेस 12 सेकंड में खत्म कर दी थी।

सीनियर अफसर ने कहा,”महिलाओ को डिफेंस फोर्सेस में आना ऐलाउड है पर सिर्फ नॉन कॉम्बैट यूनिट में ऑफिसर्स के रूप में। पर तिग्गा ने ये पहली महिला जवान होने की यूनिक डिस्टिंक्शन कमाई है।”

दुखद अंत

शांति तिग्गा काफी संदेहास्पद(mysterious) स्तिथियों में मृत पायीं गयीं। उनकी फैमिली ने उनके मर्डर की बात कही। शांति को कुछ अनजान लोगों ने 9 मई 2013 की शाम को किडनैप किया और उन्हें रेलवे ट्रैक्स के पास वाली पोस्ट पर ब्लाइंडफोल्ड करके बांध दिया। इस घटना के बाद वो अस्पताल में अंडर ऑब्जरवेशन रहीं।

एक सुबह उन्हें फांसी पर लटकता हुआ पाया गया। कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार शांति को पैसे लेने और लोगो को नौकरी का झांसा देने के गलत मामले में फंसाया जारहा था इसलिए उन्होंने परेशान होकर अपनी जान दे दी।

और पढ़िए-पुलवामा अटैक के शहीद की पत्नी निकिता कॉल ढौंडियाल आर्मी में जाने के लिए तैयार

Recent Posts

गहना वशिष्ठ का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल : इंस्टाग्राम पर नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या यह अश्लीलता है?

गंदी बात अभिनेत्री गहना वशिष्ठ (Gehana Vasisth) की एक इंस्टाग्राम लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर…

2 hours ago

बच्चों को कोरोना कितने दिन तक रहता है? लांसेट स्टडी में आए सभी जवाब

कोरोना की तीसरी लहर जल्द ही शुरू होने वाली है और एक्सपर्ट्स का ऐसा कहना…

3 hours ago

गहना वशिष्ठ वायरल वीडियो : कैमरे के सामने नग्न होकर दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील लग रही है ?

वशिष्ठ ने कैमरे के सामने नग्न होकर अपने दर्शकों से पूछा कि क्या वह अश्लील…

3 hours ago

अक्षय कुमार और लारा दत्ता की फिल्म बेल बॉटम (Bell Bottom) से जुड़ीं 10 बातें

इस फिल्म में एक्ट्रेस लारा दत्ता इंदिरा गाँधी का किरदार निभा रही हैं और अक्षय…

3 hours ago

दिल्ली कैंट गर्ल रेप केस: राहुल गाँधी बच्ची के परिवार से मिलने पहुंचे

परिवार से मिलने के कुछ समय बाद, गांधी ने हिंदी में ट्वीट किया और कहा…

3 hours ago

बेल बॉटम ट्रेलर : ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा लारा दत्ता ट्रांसफॉर्मेशन (Bell Bottom Trailer)

दत्ता ट्रेलर में पहचान में न आने के कारण ट्विटर पर ट्रेंड कर रही हैं।…

4 hours ago

This website uses cookies.