अप्रैल महीने में जब महामारी ने गति पकड़ी, तो 23 वर्षीय मिस इंग्लैंड डॉ. भावना मुखर्जी COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में शामिल हुए। उन्होंने इंग्लैंड के एक COVID-19 अस्पताल में NHS फ्रंट लाइन पर रेस्पिरेट्री स्पेशलिस्ट के रूप में काम करना शुरू किया। अब उन्होंने पश्चिम बंगाल के लिए भी चिंता जताई है क्योंकि चक्रवात (cyclone) अम्फान ने वहां काफी तबाही मचा दी है और अब वो फंड्स रेज़ करने में जुट गयी हैं

image

“हाँ, यह मेरे लिए दिल दुखाने वाला है।  मैं उन बेघर लोगों के लिए काफी बुरा महसूस करती हूं। इतने घर उजड़ गए, तो कई जानें चली गईं। मैं सभी से इसमें शामिल होने और उनकी मदद करने की अपील करती हूं। मैं ब्रिटेन में भी यही कर रही हूं। मैं चैरिटेबल ऑर्गेनाइजेशन के साथ काम कर रही हूं, जो तूफान में प्रभावित हुए लोगों को इमरजेंसी सुविधाएं पहुंचाते हैं ” टाइम्स नाउ को दिए एक इंटरव्यू में COVID-19 वारियर ने कहा।

और पढ़ें- स्वरा भास्कर ने भेजा 1300 माइग्रेंट वर्कर्स को घर

“यह एकजुट होने का समय है”

जब वह नौ साल की थीं, तब मुखर्जी अपने पेरेंट्स के साथ यूके चली गईं। मुखर्जी का कहना है कि वह मुश्किल समय में कभी भी पीछे नहीं हट सकती। “यह एकजुट होने और सेल्फलेस होने का समय है।”

मुखर्जी हाल ही में भारत में ही थी..

सीएनएन ने बताया कि उसने इस साल अपनी चैरिटेबल ड्यूटी के लिए मार्च की शुरुआत में भारत का दौरा किया। वह कई स्कूलों में स्टेशनरी दान कर रही थी और लड़कियों के लिए घर में पैसे का योगदान भी कर रही थी। जब महामारी फैली, तो उन्होंने ईस्टर्न इंग्लैंड के पिलग्रिम अस्पताल में अपने हेल्थकेयर कलीग्स से जुड़ने का फैसला किया, मैं वास्तव में टास्क फोर्स में शामिल होना चाहती थी,” उन्होंने नेटवर्क को बताया।

“यह एकजुट होने और सेल्फलेस होने का समय है।” – डॉ. भावना मुखर्जी

मुखर्जी ने मेडिकल साइंस में डिग्री के साथ नॉटिंघम यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है। उसके पास दवा और सर्जरी की दूसरी डिग्री है, उसका आईक्यू 146 है और वह पांच भाषाएं बोल सकती है। मुखर्जी को 2019 में मिस इंग्लैंड का ताज पहनाया गया था और पिछले साल दिसंबर में लंदन में आयोजित 69 वीं वार्षिक मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में देश को रिप्रेजेंट किया था।

और पढ़ें – जैसिंडा आर्डर्न इस सदी में न्यूजीलैंड की सबसे लोकप्रिय पीएम बनी

 

Email us at connect@shethepeople.tv