Omicron Variant Cause More Reinfections: ओमिक्रोण डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले 3 गुना ज्यादा इन्फेक्शन फैला सकता है

Omicron Variant Cause More Reinfections: ओमिक्रोण डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले 3 गुना ज्यादा इन्फेक्शन फैला सकता है Omicron Variant Cause More Reinfections: ओमिक्रोण डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले 3 गुना ज्यादा इन्फेक्शन फैला सकता है

SheThePeople Team

03 Dec 2021

Omicron Variant Cause More Reinfections: कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोण को लेकर फ़िलहाल सभी जगह चिंता का माहौल है। इसको लेकर स्टडीज तेजी से हो रही हैं और इस वैरिएंट को समझने की कोशिश की जा रही है। इससे मालूम हुआ है कि ओमिक्रोण की इन्फेक्शन फैलाने की रेट डेल्टा से 3 गुना ज्यादा है।

ओमिक्रोण वैरिएंट का खतरा किन लोगों को ज्यादा है? Omicron Variant Cause More Reinfections


जैसे कि आपको मालूम है कि यह नया वैरिएंट साउथ अफ्रीका से आया है और साउथ अफ्रीका के हेल्थ सिस्टम ने बताया है कि यह वैरिएंट ऐसे इम्यून सिस्टम में भी घुस सकता है जो कि पहले इन्फेक्टेड हो चुके हैं।

जिन भी लोगों को ओमिक्रोण वैरिएंट ने इन्फेक्ट किया है उनको किसी न किसी वेव में कोरोना हुआ है। यह उन लोगों को ज्यादा इन्फेक्ट कर सकता है जिन्हें दूसरी लहर के दौरान डेल्टा वैरिएंट ने इन्फेक्ट किया हो।

इसके अलावा यह वैक्सीनेटेड लोगों को किस तरीके से इन्फेक्ट करेगा इसको लेकर अभी भी ज्यादा कुछ कन्फर्म नहीं है और लगातार जांच चल रही है। इसके आने के बाद फूली वैक्सीनेटेड होने पर और ज्यादा ज़ोर डाला जा रहा है ताकि रिस्क कम किया जा सके।

इंडिया में ओमिक्रोण केसेस कहाँ निकले हैं?


ओमिक्रोण जिसको लेकर सभी जगह तहलका मचा हुआ था उसके पहले 2 केसेस इंडिया में भी आ गए हैं। यह केसेस कर्णाटक के हैं और हेल्थ मिनिस्ट्री ने इसकी पुष्टि की है। इससे पूरे इंडिया में सभी अलर्ट हो गए हैं क्योंकि इस वैरिएंट की इंडिया में एंट्री हो गयी है और अब सभी को सतर्कता से रहने की जरुरत है।

जिन लोगों को कर्णाटक में ओमिक्रोण निकला है यह दोनों आदमी 40 साल से ऊपर के हैं। एक की उम्र 66 है और दूसरे की 46 है। हेल्थ मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कहा है कि इन लोगों की आइडेंटिटी अभी रिवील नहीं की जा रही है।

इन लोगों के कांटेक्ट में जो जो लोग आये हैं इनको अभी ट्रेस किया जा रहा है और टेस्ट के सैंपल लिए जा रहे हैं। हेल्थ मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने यह भी कहा है कि कोई भी टेंशन न ले और दोनों केसेस ही सीरियस नहीं हैं और सिम्पटम्स भी नार्मल हैं।

अनुशंसित लेख