श्रीनगर की स्टूडेंट ने कतर यूनिवर्सिटी की स्कालरशिप जीती: 12 वीं कक्षा की श्रीनगर की स्टूडेंट मलीहा ज़ेहरा को कतर के फेमस जॉर्ज टाउन विश्वविद्यालय, स्कूल ऑफ़ फॉरेन सर्विस में अध्ययन करने के लिए $ 70,000 (51 लाख रुपये से अधिक) की स्कालरशिप मिली है। श्रीनगर की रहने वाली स्कूल की छात्रा ने कहा कि वह “क्लाउड नाइन” पर है क्योंकि वह पिछले दो सालों से स्कॉलरशिप की तैयारी कर रही थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार “यह मेरी कल्पना से परे है – जो कुछ भी मैं महसूस कर रही हूं और जो कुछ भी हो रहा है, वह सब कुछ बहुत अच्छा है”, खुश छात्र ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया। “मेरे माता-पिता और मेरे परिवार में सभी लोग खुश हैं। जो लोग वर्षों से मेरे संपर्क में नहीं थे, वे अब मुझे कॉल कर रहे हैं और बधाई दे रहे हैं। ” उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि कैसे बैक-टू-बैक लॉकडाउन उनकी यात्रा में एक बाधा थी। हालांकि, यह ऑफर पिछले महीने के अंत में आया था।

जम्मू और कश्मीर की स्पेशल स्टेटस और राज्य में 4 जी इंटरनेट सेवाओं के बैन होने के बाद, ज़हरा ने कहा कि उस साल वह अपनी ऍप्लिकेशन्स के मामले में बहुत कुछ नहीं कर पाई। फिर बाद में पता चला कि लॉकडाउन के कारण 2020 में ज़्यादातर समय स्कूल बंद रहे। लेकिन उनके ग्रेड और ब्राजील में एक एक्सचेंज प्रोग्राम जो उसने 2018 में अटेंड किया था, सभी ने उसके ऍप्लिकेशन्स को बढ़ावा दिया। “लेकिन यह मेरे लिए बहुत मुश्किल और चुनौतीपूर्ण साल था,” ज़हरा ने कहा।

अपने टीचर्स, स्कूल कौन्सेल्लोर और यहां तक ​​कि अपने सीनियर्स के साथ परामर्श करने के बाद, जो विदेश में पढ़ रहे हैं, ज़ेहरा ने जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी में अप्लाई करने का फैसला किया और इस साल मार्च में उन्हें एक्सेप्टेन्स लेटर और एक महीने बाद अप्रैल में स्कॉलरशिप लेटर प्राप्त हुआ।

अपने परिवार के बारे में बात करते हुए ज़हरा ने राइजिंग कश्मीर से कहा, “मैं एक जॉइंट फॅमिली में बड़ी हुई हूं। उन्होंने मुझे मेरे रिलेशन्स  और मेरे आसपास के लोगों को महत्व देने में मदद की है। ” उसने अपनी सफलता के लिए हर व्यक्ति को श्रेय दिया और कहा कि उन सभी ने मेरे जीवन में प्रभाव डाला है। वह अपने बड़े भाई का शुक्रिया अदा करती है जो उसके जीवन का सबसे मजबूत प्रभाव है। “मेरे माता-पिता और छोटी बहन हमेशा मेरा सपोर्ट रहे हैं। उन्होंने हमेशा मुझे सच्चाई की राह पर चलने और कड़ी मेहनत करने की सीख दी, क्योंकि यह हमेशा भुगतान करता है, ”ज़हरा ने कहा।

हालाँकि, यह टीनएजर अब अपने फ्यूचर को लेकर अनसर्टेन है क्योंकि कक्षा 12 के बोर्ड पोस्टपोन कर दिए गए हैं और दुनिया भर के देशों ने भारत से आने वाली उड़ानों पर नए ट्रेवल बैन लगा दिए हैं। ज़हरा ने कहा, “मैं इस बात को लेकर थोड़ा चिंतित हूं कि क्या सब कुछ समय पर होगा,”

ज़हरा ने खुलासा किया कि वह अपने देश वापस आना चाहती है और कश्मीर के लोगों की सेवा करना चाहती है। वह दुनिया भर में मानवाधिकारों के उल्लंघन के बारे में लिखने में रुचि रखती है।

 

Email us at connect@shethepeople.tv