न्यूज़

Sexual Harassment रोकने के लिए तमिलनाडु ने Guidelines की जारी

Published by
Harshita Gurnani

यौन उत्पीड़न गाइडलाइंस – तमिलनाडु में यौन उत्पीड़न को लेकर कई मामले सामने आए हैं। हाल ही में ऑनलाइन के एक फैकेल्टी मेंबर ने ऑनलाइन क्लास के दौरान लड़कियों के साथ बदतमीजी करने की कोशिश की थी। जिसके बाद उनके खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ था। वहीं सरकार लगातार यौन उत्पीड़न के मामलों को देखते हुए कुछ गाइडलाइन जारी किए हैं।

किन पर लागू होंगे यह गाइडलाइंस ?

यौन उत्पीड़न की रोकथाम के लिए ये नियम ऑनलाइन कक्षाओं के लिए तमिल नाडु में सभी जगह लागू होंगे। कोरोनावायरस के कारण हर जगह ऑनलाइन क्लास चल रहा है, इसमें ऐसे मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इसलिए तमिलनाडु की सरकार ने ऑनलाइन क्लास के दौरान होने वाले ऐसे मामलों को रोकने के लिए यह फैसला लिया है।

कमेटी का गठन किया जाएगा

गाइडलाइंस के अनुसार छात्रों की सुरक्षा के लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा। इस कमेटी में दो शिक्षक, मैनेजमेंट रिप्रेजेंटेटिव, प्रिंसिपल, नॉन टीचिंग स्टाफ शामिल होंगे। पैरंट टीचर बॉडी के सदस्य को भी अनिवार्य रूप से शामिल किया जाएगा। हालांकि अभी यह ऑप्शन है कि बाहरी व्यक्ति को शामिल किया जाएगा कि नहीं।

कैसे करेगी यह कमेटी काम

साइड लाइंस के अनुसार कमेटी का गठन किया जाएगा। जिसमें शिक्षक, मैनेजमेंट रिप्रेजेंटेटिव, प्रिंसिपल और नॉन टीचिंग स्टाफ शामिल होंगे। यह कमेटी यौन उत्पीड़न से जुड़े आने वाले समस्याओं पर लगातार नजर रखेगी और उनकी निगरानी भी करेगी। स्कूलों के परिसर में सेफ्टी बॉक्स लगाए जाएंगे और प्रतिक्रियाओं की निगरानी समिति द्वारा की जाएगी।

मौखिक शिकायत आने पर समिति के द्वारा उससे अलग रजिस्टर में दस्तावेज किया। कोई भी शिकायत आने पर उसे स्टेट सेल को जानकारी देनी होगी।

इन कमेटी को किया जाएगा ट्रेन

कॉल करने वालों या पूछताछ करने वालों से बात करने के लिए नोडल सेंटर में टीम को ट्रेन किया जाएगा। इन कॉलों को गोपनीय रखते हुए रिकॉर्ड किया जाएगा। स्कूलों के लिए पोक्सो एक्ट के प्रावधानों की व्यापक समझ हासिल करना भी अनिवार्य है।

यह है अन्य गाइडलाइंस

इसके अलावा भी और कई गाइडलाइन है। इसमें प्रकृति और छात्र दोनों को उचित रूप से तैयार होकर ही क्लास लेना होगा। सभी ऑनलाइन कक्षाओं को रिकॉर्ड किया जाएगा और समय-समय पर ऑडिट किया जाएगा।

दिशानिर्देशों में यह भी कहा गया है कि सभी स्कूलों को जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 15 नवंबर से 22 नवंबर तक ‘बाल शोषण रोकथाम सप्ताह’ का आयोजन करना होगा।

यौन उत्पीड़न गाइडलाइंस

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

18 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

19 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

20 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

21 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

21 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

23 hours ago

This website uses cookies.