त्रिपुरा की राज्य सरकार ने बुधवार को कक्षा 6 से 12 वीं तक की सभी लड़कियों को मुफ्त सैनिटरी नैपकिन प्रदान करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। त्रिपुरा के शिक्षा मंत्री रतनलाल नाथ ने यह घोषणा की।

image

इस नई योजना को ‘किशोरी सुचिता अभियान’ के रूप में जाना जाता है। इस प्रोजेक्ट के तहत, कुल 1,68,252 स्कूली छात्राओं को सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध कराए जाएंगे। योजना के लिए राज्य द्वारा 3,61,63,248 रुपये का फण्ड दिया गया है। शुरूआती लक्ष्य तीन साल के समय के लिए निर्धारित है।

सेक्रेटेरिएट को संबोधित करते हुए, मंत्री ने कहा, “महिलाओं के बीच m को बढ़ाने के लिए, त्रिपुरा कैबिनेट ने बुधवार को कक्षा 6 से 12 वीं तक की सभी स्कूली लड़कियों के बीच मुफ्त सैनिटरी नैपकिन प्रदान करने के लिए स्वीकृति दी।”

नाथ ने कहा, “राज्य शिक्षा विभाग ने स्कूल शिक्षा विभाग और शिक्षा मंत्रालय के दिशानिर्देश के अनुसार ‘स्कूल बैग 2020 पर नीति’ को भी अपनाया है।”

ऐसे अन्य प्रयास

एक नॉन-गवर्नमेंटल आर्गेनाईजेशन (एनजीओ) के सहयोग से मासिक धर्म स्वच्छता जागरूकता पैदा करने के लिए हाल ही में, ठाणे नगर निगम (टीएमसी) ने शहर के शौचालय में महिलाओं के लिए एक रेस्ट रूम स्थापित किया है।

2018 में, सेनेटरी नैपकिन को सभी के लिए अवेलेबल बनाने के लिए, केरल सरकार ने “शी पैड” लॉन्च किया। उसी वर्ष, पुणे में नगरपालिका स्कूलों ने भी अपने परिसर में सैनिटरी नैपकिन डिस्पोजल यूनिट्स को स्थापित किया।

त्रिपुरा में COVID स्थिति पर

राज्य में COVID ​​-19 की स्थिति के बारे में बोलते हुए, उन्होंने कहा कि राज्य में तेजी से सुधार हो रहा है। गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल में केवल पांच मरीजों का इलाज चल रहा था। इस बीच, 32 लोग घर से बाहर हैं।

पिछले चार दिनों में राज्य में वायरस से होने वाली मौतों की कोई रिपोर्ट नहीं है। इसके अलावा, वैक्सीनेशन प्रोग्राम के पहले फेज के तहत 4269 स्वास्थ्य कर्मचारियों को पहले ही वैक्सीन लगाया जा चुका है। राज्य में इन वर्कर्स से किसी भी प्रकार के साइड -इफ़ेक्ट की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है।

Email us at connect@shethepeople.tv