बच्चों के लिए वैक्सीनेशन – WHO COVID-19 Expert ने स्टेटमेंट देते हुए कहा कि बच्चों के लिए वैक्सीन अभी इतनी जरुरी नहीं है क्योंकि बच्चे कोरोना होने के कम रिस्क में हैं। भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी होने के कारण जरुरत वाले लोगों को वैक्सीन के लिए आगे रखा जा रहा है।

COVID-19 Expert डॉ कैट ने सोशल मीडिया सेशन के दौरान ये कहा कि बच्चों के लिए वैक्सीनेशन अभी इतना जरुरी नहीं है क्योंकि उनका कोरोना होने का खतरा बहुत कम है। इनका कहना है कि फ़िलहाल दूसरे उम्र के जरुरतमंद लोगों को वैक्सीन देना बेहद जरुरी है जैसे कि ज्यादा उम्र के, हेल्थ वर्कर्स और बाकि सब लोग जिनको बच्चों से ज्यादा कोरोना होने का खतरा है।

बाल रोग विशेषज्ञ और WHO के टीके विभाग के निदेशक ने इस तथ्य पर प्रकाश डाला कि टीकाकरण का उद्देश्य बच्चों को गंभीर रूप से बीमार होने या मरने से बचाने के बजाय बीमारी के संचरण को कम करना या रोकना होगा, इसलिए उनका टीकाकरण प्राथमिकता नहीं है इस समय।

बच्चों के टीकाकरण को लेकर एक्सपर्ट्स का क्या कहना है ?

“बच्चों को वापस स्कूल भेजने के लिए टीकाकरण उनके लिए सुरक्षित स्कूल वापस जाने की प्रमुख आवश्यकता नहीं है। वे सुरक्षित रूप से स्कूल जा सकते हैं यदि हम जो कर रहे हैं वह उन लोगों का टीकाकरण कर रहा है जो उनके आसपास हैं जो जोखिम में हैं।” उन्होंने कहा कि वैक्सीन अगर सही मात्रा में उपलब्ध होगी तो बच्चों का टीकाकरण काफी हद तक हो सकता है।

अमेरिका, कनाडा, जापान, सिंगापुर, इज़राइल, दुबई और कई यूरोपीय देशों सहित कई देशों ने ज्यादातर 12-15 वर्ष की आयु के बच्चों के टीकाकरण को हरी झंडी दे दी है।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस ने अमीर देशों से कहा है कि वे गरीब देशों को अपने बच्चों का टीकाकरण करने के बजाय टीके की कमी में मदद करें।

Email us at connect@shethepeople.tv