न्यूज़

वेटलिफ्टर संजीता चानू के खिलाफ डोपिंग चार्जेस को रद्द किया गया

Published by
Katyayani Joshi

वेटलिफ्टर संजीता चानू के खिलाफ डोपिंग चार्जेस को रद्द कर दिया गया है और IWF( International Weightlifting Federation) ने इसे एक गलती बताया है।

सिर्फ एक गलती?

आर्गेनाइजेशन ने कहा कि चानू के सैंपल हैंडल करने में उनसे गलती होगयी थी पर संजीता चानू ने इसकी कड़ी निंदा की। चानू अपने ट्रॉमा के बदले उनसे कॉम्पेंसेशन और apology लेटर की मांग कर रहीं हैं।

चानू ने खुद को बताया शुरुआत से बेकसूर

बता दें कि 26 वर्षीय कामनवेल्थ गेम्स गोल्ड मेडलिस्ट शुरुआत से खुद को बेकसूर बता रहीं थीं पर उनपर गलत केस चलाया गया और उन्हें ससपेंड कर दिया गया था।

अलग सैंपल नंबर को चानू का नंबर बता कर की कार्यवाही

IWF ने डोप रिजल्ट नोटिफिकेशन चानू को भेजा था जिसमें लास वेगास में 17 नवंबर 2017 को उनका कलेक्ट किया गया सैंपल कोड नंबर 1599000 था। जबकी रिजल्ट सेक्शन में सैंपल कोड 1599176 को मेंशन किया गया था जो बिल्कुल अलग नंबर था।

चानू को anabolic steroid testosterone के टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया। इसके चलते उन्हें ससपेंड कर दिया गया।

मेन्टल ट्रॉमा का क्या ?

PTI मणिपुर से बात करते हुए चानू कहती हैं “मुझे खुशी है कि मुझे इस चार्ज से मुक्त किया गया पर उन अवसरों का क्या जो मेरे हाथ से निकल गए। उस मेन्टल ट्रॉमा का क्या जिससे मैं गुज़री?”

WADA के एडवाइस पर डिसिशन

वर्ल्ड एन्टी डोपिंग एजेंसी (World Anti Doping Agency WADA) के एडवाइस पर IWF ने ये डिसिशन लिया था।

क्या ऐसे फंक्शन करता है IWF?

“हर लेवल पर गलती की ज़िम्मेदारी कौन लेगा? आप लोगों ने एक खिलाड़ी को सालों के लिए ससपेंड कर दिया बिना किसी फैसले के और किसी एक दिन आप मुझे ईमेल करके बताते हैं कि मेरे ऊपर कोई चार्जेस नहीं है?”

चानू कहती हैं कि ऐसे IWF फंक्शन नहीं करता।संजीता को माफीनामा चाहिए और एक जेन्युइन एक्सप्लेनेशन चाहिए। वो जिसने भी ये किया है उसके लिए पनिशमेंट की डिमांड भी कर रहीं हैं।

“मैं हायर अथॉरिटी के पास जाऊंगी और IWF से कंपनसेशन डिमांड करूँगी।”

मेरे करियर को बर्बाद कर दिया IWF ने

चानू कहती है

“क्या ये मज़ाक है? क्या IWF को किसी खिलाड़ी के करियर के बारे में कोई चिंता नही है? क्या ये जानबूझ के मेरे ओलंपिक में खेलने के मौके को बर्बाद करने के लिये किया गया? हर खिलाड़ी का सपना होता है ओलंपिक में मेडल लाना और उसमें खेलना। मेरे लिए ये मौका IWF द्वारा छीन लिया गया।”

एक्सप्लेनेशन तो देना ही होगा

“IWF को कंपनसेशन और एक्सप्लेनेशन देनी ही चाहिए। मैं ओलंपिक्स के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई। मैंने ढेर सारे टूर्स मिस किये। मुझे अपोलॉजी चाहिए इस मेन्टल हैरासमेंट के लिए।”

और पढ़िए- साक्षी मलिक लॉक डाउन में देसी अखाड़े में ट्रेनिंग कर रहीं हैं

Recent Posts

क्या घर के काम सिर्फ़ महिलाओं की ज़िम्मेदारी है ?

"घर के काम महिलाओं की जिम्मेदारी है।" ये हम सालो से सुनते आए है। चाहे…

13 hours ago

Advantages and Disadvantages of Coffee: क्या कॉफ़ी पीना ख़राब होता है? जानिये कॉफ़ी पीने के फ़ायदे और नुक्सान

'ऐक्सेस ऑफ एवरीथिंग इज बैड ' ज्यादा कॉफी का सेवन करना भी सेहत के लिए…

13 hours ago

Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

इंडिया में स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, उनकी छोटी सोच की वहज से? आख़िर…

13 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर लड़की की एक और वीडियो हुई वायरल Lucknow Cab Driver Case Girl

इस वीडियो में प्रियदर्शिनी उस आदमी को डरा धमका भी रही हैं और कह रही…

14 hours ago

Mirabai Chanu Rewards Truck Driver : ओलंपियन मीराबाई चानू ने ट्रक ड्राइवरों को रिवार्ड्स दिए

मीराबाई अपने घर के खर्चे कम करने के लिए इन ट्रक के ड्राइवर से फ्री…

14 hours ago

Happy Birthday Kajol : जानिए काजोल के 5 पावरफुल मदरहुड कोट्स

जैसे जैसे काजोल उम्र में बड़ी होती जा रही हैं यह समझदार होती जा रही…

15 hours ago

This website uses cookies.