Woman Defeats Mother-In-Law In Village Panchayat: गिर सोमनाथ में ग्राम पंचायत सरपंच बनने के लिए, बहु ने हराया सास को

Woman Defeats Mother-In-Law In Village Panchayat: गिर सोमनाथ में ग्राम पंचायत सरपंच बनने के लिए, बहु ने हराया सास को Woman Defeats Mother-In-Law In Village Panchayat: गिर सोमनाथ में ग्राम पंचायत सरपंच बनने के लिए, बहु ने हराया सास को

SheThePeople Team

22 Dec 2021


Woman Defeats Mother-In-Law In Village Panchayat: गिर सोमनाथ जिले के देलवाड़ा गांव के सरपंच के ऑफिस की दौड़ में मंगलवार की देर शाम एक चुनावी जंग में एक महिला ने अपनी सास को हरा दिया।

गिर सोमनाथ के ऊना तालुका के एक गांव देलवाड़ा की ग्राम पंचायत के चुनाव के लिए रविवार को मतदान हुआ। ग्राम सरपंच पद के लिए मुख्य मुकाबला पूजा बंभानिया और उनकी सास जीवीबेन बंभानिया के बीच था। दिलचस्प बात यह है, कि जिवबेन के बेटे और पूजा के पति विजय सरपंच हैं, जिन्होंने ऑफिस में दो टर्म्स पूरे किए हैं। विजय, जो एक भाजपा वर्कर है, ने देलवाड़ा ग्राम पंचायत के लिए 2011 का चुनाव जीता था और 2006 में सरपंच चुनी गई, अपनी मां की जगह ली थी।

Woman Defeats Mother-In-Law In Village Panchayat: पूजा ने सभी 16 चुनावी वार्डों में जीत हासिल की

वोट्स की गिनती मंगलवार को हुई और मंगलवार देर रात घोषित रिजल्ट में पूजा विजयी रही। इतना ही नहीं, उनके कैंडिडेट्स के पैनल ने ग्राम पंचायत के सभी 16 चुनावी वार्डों में जीत हासिल की, जिससे उनकी राइवल सास जीवीबेन चुनाव में हार गयी। रविवार को मतदान के दौरान देलवाड़ा के 5,000 से अधिक निवासियों ने अपने वोट्स का प्रयोग किया था। मंगलवार को काउंटिंग के दौरान पूजा ने अपनी सास को 1,177 मतों से हराया।

एंटी-सोशल एलिमेंट्स के खिलाफ लड़ाई

"मैं इसे हमारे परिवार में एक राजनीतिक युद्ध के रूप में नहीं देखती। बस इसी कम्पटीशन को सास-बहू के बीच लड़ाई होने की टैगलाइन दी गई थी। यह डेलवाड़ा के बाहर के एंटी-सोशल एलिमेंट्स के खिलाफ लड़ाई थी, जो डेलवाड़ा के निवासियों को परेशान कर रहे थे, धमका रहे थे और डरा रहे थे। उन्होंने गांव में दहशत का माहौल बना दिया था। लेकिन देलवाड़ा के निवासी इकट्ठे हो गए और उन्हें जवाब दिया, कि वे डेलवाड़ा में आने की हिम्मत भी नहीं कर सकते। सभी 16 सीटों पर जीत घड़ो के पैनल की नहीं, बल्कि पूरे डेलवाड़ा गांव की जीत है,'' पूजा ने कहा।

पूजा और उनके पैनल ने ग्राम पंचायत के 16 वार्डों पर चुनाव लड़ा था। विजय ने परिवार में दरार के लिए 'भाजपा के एक पूर्व विधायक' को दोषी ठहराया, आरोप लगाया, कि विधायक ने ग्राम पंचायत चुनाव में उसकी मां को सपोर्ट किया था। उन्होंने कहा, कि चुनाव में उनकी पत्नी और मां के बीच आमने-सामने की लड़ाई से परिवार को काफी दुख पहुंचा है।



अनुशंसित लेख