न्यूज़

रूसी विश्वविद्यालय ने दुनिया की पहली COVID-19 वैक्सीन के ट्रायल्स को पूरा किया

Published by
Mahima

सेचनोव फर्स्ट मॉस्को स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी (Sechenov First Moscow State Medical University) में वालंटियर्स पर दुनिया के पहले COVID-19 वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल्स पूरे हो चुके हैं। परीक्षणों के इस स्टेज का उद्देश्य ह्यूमन हेल्थ के लिए वैक्सीन की सुरक्षा का पता लगाना था। सेचनोव यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल पैरासिटोलॉजी, ट्रॉपिकल और वेक्टर-बॉर्न डिजीज के डायरेक्टर अलेक्जेंडर लुकाशेव ने कहा कि उन्होंने ट्रायल्स पूरा होने में सफलता हासिल की है।

एएनआई के अनुसार “ट्रायल्स ने वैक्सीन की सेफ्टी कन्फर्म की। यह उन टीकों की सुरक्षा से मेल खाता है जो वर्तमान में बाजार में हैं, ”लुकाशेव ने कहा।

और पढ़िए: WHO ने स्वीकारा है कि कोरोना वायरस हवा के माध्यम से भी फैल सकता है

गेमली इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी जो इस वैक्सीन पर काम कर रही है, हालांकि, अभी तक इसके कमर्शियल प्रोडक्शन के बारे में डिटेल्स का खुलासा नहीं किया है। विश्वविद्यालय ने कथित तौर पर 18 जून को वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल्स की शुरुआत की।

देश के स्वास्थ्य मंत्री ने 8 जुलाई को कहा था कि रूस में कथित तौर पर COVID-19 के लिए 17 टीकों पर काम चल रहा है।

इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के डायरेक्टर वादिम तरासोव ने बताया कि वालंटियर्स के पहले समूह को बुधवार को छुट्टी दे दी जाएगी। इसी तरह, दूसरे को 20 जुलाई को छुट्टी दे दी जाएगी। सेचेनोव विश्वविद्यालय ने 23 जून को COVID-19 वैक्सीन के लिए 20 स्वयंसेवकों के दूसरे समूह का टेस्ट किया।

विश्व की पहला COVID-19 वैक्सीन:

वैक्सीन के विकास के लिए डेवलपर्स आगे की योजना बना रहे हैं। योजनाओं में वायरस के साथ epidemiological सिचुएशन की कम्प्लेक्सिटी और प्रोडक्शन में वृद्धि की संभावना भी शामिल है।

“हमने इस वैक्सीन के साथ काम किया, जो प्रीक्लिनिकल स्टडीज और प्रोटोकॉल डेवलपमेंट के साथ शुरू हुआ। क्लीनिकल ट्रायल्स भी फिलहाल चल रहे हैं, “वादिम तरासोव, इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के डायरेक्टर ने कहा।

“महामारी की स्थिति में सेचेनोव विश्वविद्यालय ने न केवल एक एजुकेशन इंस्टिट्यूट के रूप में, बल्कि एक साइंटिफिक और टेक्नोलॉजिकल रिसर्च केंद्र के रूप में भी काम किया। इसलिए, यह ड्रग्स के जैसे इम्पोर्टेन्ट और काम्प्लेक्स प्रोडक्ट्स के निर्माण में भाग लेने में सक्षम है, ”तरासोव ने कहा।

वैक्सीन ट्रायल्स:

टीका परीक्षणों में, पहले चरण में आमतौर पर लोगों का एक छोटा ग्रुप होता है। इसका उद्देश्य मनुष्यों के लिए वैक्सीन की सुरक्षा का ट्रायल करना है। इसके अलावा, बाद के चरणों का ट्रायल यह पता करता है कि क्या टीका बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन के लिए सुरक्षित है।

और पढ़िए: UNICEF की रिपोर्ट: कोरोनावायरस लॉकडाउन से बच्चों की पढ़ाई पर असर

Recent Posts

Delhi Cantt Rape Case: लाश के नाम पर महज़ जले हुए दो पैर से कैसे पता लगाएगी पुलिस कि बच्ची के साथ रेप हुआ था या नहीं ?

पुलिस के मुताबिक़ मामले की जांच जारी है ,उन्होंने भारतीय दंड संहिता (IPC) की संबंधित…

7 hours ago

Big Boss 15 : पति Karan Mehra संग विवादों के बाद क्या Nisha Rawal बिग बॉस 15 शो में नज़र आएगी ?

अभिनेत्री और डिजाइनर निशा रावल जो पति करण मेहरा के साथ अपने विवाद के बाद…

10 hours ago

क्या आप Dial 100 फिल्म का इंतज़ार कर रहे हैं? इस से पहले देखें ऐसी ही 5 रिवेंज थ्रिलर फिल्में

एक्ट्रेस नीना गुप्ता की जल्दी ही नयी फिल्म आने वाली है। गुप्ता और मनोज बाजपेयी…

10 hours ago

Viral Drunk Girl Video : पुणे में दारु पीकर लड़की रोड पर लेटी और ट्रैफिक जाम किया

इस वीडियो में एक लड़की देखी जा सकती है जिस ने दारु पी रखी है…

11 hours ago

Tokyo Olympic 2021 : क्यों कर रहे हम टोक्यो ओलंपिक्स में महिला एथलिट को सेलिब्रेट?

इस बार के टोक्यो ओलिंपिक 2021 में महिला एथलिट ने साबित कर दिया है कि…

11 hours ago

TOKYO ओलंपिक्स 2020 : अदिति अशोक कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

भारतीय महिला गोल्फर अदिति अशोक पहली बार सबकी नज़र में 5 साल पहल रिओ ओलंपिक्स…

12 hours ago

This website uses cookies.