Bloating Problem: इन फ़ूड आइटम से आपकी ब्लोटिंग होगी कम

Swati Bundela
22 Aug 2022
Bloating Problem: इन फ़ूड आइटम से आपकी ब्लोटिंग होगी कम

क्या आपने कभी फूला हुआ महसूस किया है? इसे ब्लोंटिग कहा जाता है। यह समस्या बेहद आम है और ज्यादातर लोगों को यह परेशानी होती है। इसमें पेट भरा हुआ लगता है और टाइट हो जाता है। क्या आपको भी यह समस्या होती है?आप इसके लिए दवाईयां खाती हैं? अगर आपका जवाब हां है तो ऐसा करना छोड़ दें। क्योंकि आप नेचुरल चीजों के द्वारा इस परेशानी से लड़ सकती हैं। आज आप जानेंगे कि कैसे आप अपनी डाइट में कुछ चीजें ऐड करके इस समस्या से निजाप पा सकती हैं। 

Bloating Problem: आपकी ब्लोटिंग हो सकती है कम 

ब्लोंटिग का सबसे सामान्य कारण गैस है। जब हम खाना देर से खाते हैं या फिर अधिक खा लेते हैं, तब गैस बनने लगती है। किसी दवाई के रिएक्शन के कारण भी ब्लोटिंग हो जाती है। नमक और कार्बोहाइड्रेट का अधिक सेवन भी ब्लोटिंग का कारण बनता है। खासतौर पर जो लोग सुबह उठकर चाय पीते हैं, उन्हें यह समस्या सबसे ज्यादा होती है। पर आप घबराएं नहीं, आज हम जिन फ़ूड आइटम की बात आपसे करेंगे उनका सेवन करके आपको आपके फुले पेट की समाया से निजात मिल जायेगा।

अदरक से मिलेगी राहत 

अदरक को बेहद पौष्टिक माना जाता है। यही कारण है कि इसका इस्तेमाल खाने से लेकर दवाई तक में किया जाता है। हालांकि, अदरक का सेवन ज्यादातर सर्दियों में किया जाता है। जिन लोगों को ब्लोटिंग की समस्या होती है, उनके लिए अदरक लाभकारी साबित हो सकता है। अदरक में ज़िंगिबैन नामक एक एंजाइम पाया जाता है, जो प्रोटीन को आसानी से ब्रेकडाउन करता है जिससे डाइजेशन में समस्या नहीं होती है। 

खीरा भी है लाभकारी 

यह बात हम सभी जानते हैं कि खीरा पानी का सबसे अच्छा स्त्रोत है। खीरे में 95% पानी होता है। ब्लोटिंग की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए खीरा का सेवन करना फायदेमंद होता है। खीरा ही नहीं जिन चीजों में पानी की मात्रा अधिक पाई जाती है, वह ब्लोटिंग की समस्या को कम करते हैं। इससे डिहाइड्रेशन की समस्या भी नहीं होगी। 

एप्पल साइडर विनेगर

खाना सही तरीके से डाइजेस्ट न होने के कारण शरीर में ब्लोटिंग होने लगती है। ऐसे में आपको दवाई के बजाय नेचुरल चीजों को अपनी डाइट में शामिल जरूर करना चाहिए। एप्पल साइडर विनेगर पिएं। यह एसिड को स्ट्रेंथ करता है, ताकि खाना आसानी से पच जाए। जिससे हमारे शरीर से वेस्ट बाहर निकलता है और पेट में ब्लोटिंग नहीं होती है। 

दही

दही में भरपूर मात्रा में प्रोबायोटिक्स पाया जाता है। यह एक बैक्टीरिया होता है, जो शरीर के लिए अच्छा माना जाता है। खासतौर पर यह आंतों के लिए। रिसर्च की मानें तो प्रोबायोटिक्स स्टूल फ्रीक्वेंसी और रेगुलैरिटी में सुधार करते हैं। उसी तरह आप ब्लोटिंग होने पर दही खाना चाहिए।

अनुशंसित लेख