Pregnancy Tips: गर्भावस्था के समय ध्यान (meditation) करने के फायदे

मेडिटेशन से माइंडफुलनेस पैदा होती है, जिससे गर्भवती महिलाओं को अपने शरीर और अपने बच्चों के बारे में अधिक जानकारी मिलती है। यह मां के साथ बच्चे का संबंध बेहतर बनाने में बढ़ावा देता है।

Swati Bundela
25 Nov 2022
Pregnancy Tips: गर्भावस्था के समय ध्यान (meditation) करने के फायदे

Pregnancy Tips

गर्भावस्था की चुनौती सबके लिए अलग हो सकती है चाहे आप कितनी बारी गर्भवती हुई हो। इस समय सोचने, चिंता करने और योजनाएं बनाने के लिए बहुत कुछ होता है, आपका दिमाग में हमेशा कुछ न कुछ चलता रहता है। ध्यान (meditation) करना गर्भावस्था के महीनों के दौरान तनाव को दूर करने का एक शानदार तरीका हो सकता है। इससे मन शांत होता है और दिमाग को आराम मिलता है।

यदि आपने पहले कभी ध्यान नहीं किया है, तो हो सकता है कि आपको इसके फायदों के बारे में न पता हो। यहां ध्यान के पांच फायदे बताए गए हैं जिसे गर्भवती महिलाएं अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकती है।

1. तनाव कम करता है
अध्ययनों से पता चलता है कि मातृ तनाव का विकासशील शिशुओं पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। शारीरिक रूप से यह समय से पहले प्रसव और जन्म के समय कम वजन का कारण बन सकता है। मानसिक रूप से अगर माता को ज्यादा तनाव हो तो उनके बच्चे में मनोवैज्ञानिक मुद्दों की बढ़ती संभावना होती है। ध्यान इन जटिलताओं के जोखिम को कम करता हैं, जिससे बच्चे स्वस्थ पैदा होते हैं।

2. हृदय गति (Heart rate) और रक्तचाप (Blood pressure) को कम करता है
गहरी सांस लेने की मेडिटेशन तकनीक हृदय गति को कम करती है और रक्तचाप को नियंत्रित करती है। गर्भावस्था के दौरान माँ और बच्चे के स्वस्थ रहने के लिए यह आवश्यक है।

3. डिप्रेशन कम करता है
गर्भावस्था के दौरान ध्यान का अभ्यास करने से डिप्रेशन और चिंता कम हो जाती है। इसका फायदा प्रसवोत्तर (postpartum) तक मिलता हैं, जिससे माताओं में पीपीडी और पीपीए की समस्या नहीं होती।

4. बच्चे के साथ संबंध बढ़ता है
मेडिटेशन से माइंडफुलनेस पैदा होती है, जिससे गर्भवती महिलाओं को अपने शरीर और अपने बच्चों के बारे में अधिक जानकारी मिलती है। यह मां के साथ बच्चे का संबंध बेहतर बनाने में बढ़ावा देता है।

5. बेहतर नींद प्रदान करता है
गर्भावस्था के दौरान अनिद्रा की शिकायत आम है। नियमित ध्यान अनिद्रा दूर करता है। ध्यान न करने वाली गर्भवती महिलाओं की तुलना में ध्यान करने वाली गर्भवती महिलाओं को अधिक आरामदायक नींद का अनुभव होता है।

6. प्रसव पीड़ा में सहायता मिलती है 
ध्यान के सबसे बड़े लाभों में से एक यह है कि यह सकारात्मक (positive) भावनाएं प्रदान करता है। इसके साथ ही प्रसव पीड़ा का दर भी दूर होता है। यह महिलाओं को प्रसव के दौरान धीरज रखने और बच्चे के जन्म के बाद की अनुभवों के बारे में अधिक सकारात्मक महसूस करने में मदद करता है।

अनुशंसित लेख