Advertisment

Vaginal Health: वजाइना से जुड़ी 8 अफवाहें जिन्हें लोग सच मानते हैं

वजाइना के बारे में कई मिथक और गलतफहमियां फैली हुई हैं, जिन्हें दूर करना जरूरी है। वजाइना को साफ रखने के लिए विशेष सफाई उत्पादों की आवश्यकता होती है, जबकि वास्तव में वजाइना स्वाभाविक रूप से स्वच्छ रहती है।

author-image
Trishala Singh
New Update
Vaginal Health

(Credits: Pinterest)

Stop Believing These 5 Myths About the Vagina: वजाइना के बारे में कई मिथक और गलतफहमियां समाज में फैली हुई हैं, जिनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। ये मिथक न केवल महिलाओं के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं, बल्कि उनके आत्म-सम्मान को भी चोट पहुंचाते हैं। आइए, वजाइना से संबंधित पाँच प्रमुख मिथकों को जानें और उनके पीछे की सच्चाई को समझें।

Advertisment

Vaginal Health: वजाइना से जुड़ी 8 अफवाहें जिन्हें लोग सच मानते हैं

1. हर समय अत्यधिक साफ रखना चाहिए

यह एक सामान्य मिथक है कि वजाइना को हर समय अत्यधिक साफ रखना चाहिए। कई महिलाएं वजाइना को साफ रखने के लिए महंगे और खुशबूदार उत्पादों का उपयोग करती हैं। वास्तविकता यह है कि योनि स्वयं-सफाई का स्वाभाविक तंत्र रखती है। वजाइना के अंदर बैक्टीरिया का एक प्राकृतिक संतुलन होता है, जो इसे स्वस्थ रखता है। बाहरी उत्पादों का उपयोग इस संतुलन को बिगाड़ सकता है और संक्रमण का कारण बन सकता है। इसलिए, वजाइना की सफाई के लिए केवल साधारण पानी का उपयोग पर्याप्त है।

Advertisment

2. आकार और स्वरूप एक जैसा होना चाहिए

एक और सामान्य मिथक यह है कि सभी महिलाओं की वजाइना का आकार और स्वरूप एक जैसा होना चाहिए। वास्तविकता यह है कि प्रत्येक महिला की वजाइना का आकार, रंग और बनावट भिन्न होती है और यह पूरी तरह से सामान्य है। वजाइना के स्वरूप में अंतर प्राकृतिक है और यह किसी भी स्वास्थ्य समस्या का संकेत नहीं है। इस मिथक पर विश्वास करने से महिलाओं में अनावश्यक आत्म-संकोच और आत्मविश्वास की कमी हो सकती है।

3. ढीलापन यौन क्रियाओं का परिणाम है

Advertisment

यह मिथक व्यापक रूप से प्रचलित है कि वजाइना का ढीलापन केवल यौन क्रियाओं का परिणाम होता है। वास्तविकता यह है कि वजाइना एक लचीला अंग है, जो यौन क्रियाओं के बाद अपने सामान्य आकार में वापस आ जाता है। वजाइना का ढीलापन उम्र, गर्भधारण और प्रसव के कारण हो सकता है, न कि केवल यौन क्रियाओं के कारण। इस मिथक पर विश्वास करने से महिलाओं में अनावश्यक अपराधबोध और आत्म-संदेह हो सकता है।

4. वजाइना से निकलने वाला स्राव हमेशा संक्रमण का संकेत है 

वजाइना से निकलने वाला स्राव कई महिलाओं के लिए चिंता का विषय हो सकता है, लेकिन यह हमेशा संक्रमण का संकेत नहीं होता। वास्तविकता यह है कि वजाइना से निकलने वाला स्राव एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है, जो वजाइना को साफ और स्वस्थ रखने में मदद करता है। हालांकि, अगर स्राव की गंध, रंग या मात्रा में अचानक परिवर्तन होता है, तो यह संक्रमण का संकेत हो सकता है और ऐसे में डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

Advertisment

5. केवल यौन सक्रिय महिलाओं को वेजाइनल इन्फेक्शन हो सकता है

यह मिथक गलत है कि केवल यौन सक्रिय महिलाओं को ही वजाइना मैं इन्फेक्शन हो सकता है। हक़ीक़त यह है कि वेजाइनल इन्फेक्शन किसी भी महिला को हो सकता है, चाहे वह यौन सक्रिय हो या नहीं। इन्फेक्शन के अन्य कारणों में खराब स्वच्छता, अत्यधिक सफाई, तंग कपड़े पहनना और एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग शामिल हो सकते हैं। इस मिथक पर विश्वास करने से महिलाओं में अनावश्यक शर्म और संकोच हो सकता है, जो उन्हें समय पर चिकित्सा सहायता लेने से रोक सकता है।

वजाइना से जुड़े मिथक और गलतफहमियां महिलाओं के स्वास्थ्य और आत्म-सम्मान को प्रभावित कर सकती हैं। इन मिथकों को समझना और इनका खंडन करना आवश्यक है ताकि महिलाएं अपने शरीर के बारे में सही जानकारी प्राप्त कर सकें और अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकें। स्वास्थ्य शिक्षा और जागरूकता के माध्यम से हम इन मिथकों को तोड़ सकते हैं और महिलाओं को सशक्त बना सकते हैं।

Disclaimer: इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद जानकारी केवल आपकी जानकारी के लिए है। हमेशा चिकित्सा या स्वास्थ्य संबंधी निर्णय लेने से पहले किसी एक्सपर्ट से सलाह लें।

Vaginal Health myths वेजाइनल इन्फेक्शन अफवाहें
Advertisment