Testosterone level:महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन होर्मोन से क्या होता है?

Rajveer Kaur
11 Oct 2022
Testosterone level:महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन होर्मोन से क्या होता है?

टेस्टोस्टेरोन होर्मोन औरत और मर्दों दोनों में पाए जाते है। इन्हें सेक्स होर्मोन भी कहा जाता है क्योंकि यह कामेच्छा के लिए ज़िम्मेदार होते है।इसकी मात्रा महिलाओं में बहुत कम होती है।आज हम जानेंगे महिलाओं में अगर टेस्टोस्टेरोन की मात्रा कम हो जाए तो क्या होगा-

टेस्टोस्टेरोन क्या है?


यह एक सेक्स हार्मोन है जो महिलाओं में भी  उनके अंडाशय में बहुत कम मात्रा पैदा होता है।यह महिलाओं में रीप्रडक्टिव टिश्यूज़ की मुरम्मत और देखभाल करते है 
महिलाओं के लिए भी टेस्टोस्टेरोन उतना आवश्यक है जितना कि पुरुषों के लिए।

टेस्टोस्टेरोन की कम मात्रा से क्या होता है?

टेस्टोस्टेरोन महिला के स्वस्थ में रोल अदा करता है।यह हड्डियों का विकास करता है।शरीर में फ़ैट को कम करता है इसके अलावा आपकी कामेच्छा को बढ़ावा देता है।
अगर शरीर में इसकी मात्रा कम हो जाए तो महिलाओं में कुछ लक्षण दिखाई देने लगते है जैसे-

-महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन की मात्रा कम होने से कामेच्छा और sexual desires में कमी आ जाती है।
-इससे आपकी सेक्शूअल संतुष्टि पर भी प्रभाव पड़ता है।
-आपकी मानसिक सेहत पर भी असर पड़ता है जैसे आपके मूड स्विंज़ होने लगते है और आप को डिप्रेशन होने लगता है।
-आपके शरीर में थकावट महसूस होने लगती है।
-आपके मसल क़मज़ोर होने लगते है।
-इसके अलावा अगर यह कमी ज़्यादा समय तक रहे तो आपको दिल की बीमारी, ख़राब याददाश्त आदि होने लगते है।
-आपकी स्किन ड्राई होने लगती है।
-बालों की डेन्सिटी कम होने लगती है।
-शरीर का वजन बढ़ने लगता है।


क्या कारण है कि महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन की मात्रा कम होने लगती है-


-जब औरतें बर्थ कंट्रोल और कॉंट्रसेप्टिव पिल्ज़ का इस्तेमाल लंबे समय तक करने लगती तब यह समस्या आती है।
-अगर आपकी ओवरी ठीक तरह काम नहीं करती है।इसके कारण भी यह हो सकता है।जैसे जब औरतों में मैनोपॉज़ होता है तब इनमे कमी आ जाती है।

अगर औरतों टेस्टोस्टेरोन ज़्यादा मात्रा होने के क्या कारण है?


अत्यधिक बल उगना-
जब महिलाओं के शरीर पर अनचाहे बाल आने लगे फ़ेस, बैक और चेस्ट पर इसका मुख्य कारण आपके ऐंड्रॉजेन हॉर्मोन में असंतुलन है।

PCOS
पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम(PCOS) इसके कारण भी आपके शरीर में ऐंड्रॉजेन हॉर्मोन की मात्रा बढ़ जाती है। आपकी माहवारी भी असंतुलन हो जाती है। इसके कारण महिलाओं में बाँझपन, टाइप 2 डायबिटिस, मोटापा और बच्चे का गिर जाना आदि बहुत सी दिक़्क़तें आती है।

CAH
इसके कारण आपके शरीर में बाँझपन, मर्दों जैसे गुण, प्यूबिक हेयर आदि होने लगता है।

अनुशंसित लेख