Advertisment

पीरियड रेगुलेट करने के लिए महिलाएं डाइट में शामिल करें ये बीज

आहार में कुछ सीड्स को शामिल करने से पीरियड को रेगुलेट करने में प्राकृतिक और प्रभावी सहायता मिल सकती है। ये बीज आवश्यक पोषक तत्वों, फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। आइये जानते हैं कौन से हैं वो सीड्स-

author-image
Priya Singh
New Update
Seeds (freepik).png

(Image Credit : Freepik)

Women should include these seeds in their diet to regulate their periods: पीरियड सायकल को नियमित करना कई महिलाओं के लिए एक चुनौती हो सकती है, जो तनाव, हार्मोनल असंतुलन और आहार संबंधी आदतों जैसे कारकों से प्रभावित होती है। आहार में कुछ सीड्स को शामिल करने से पीरियड को रेगुलेट करने में प्राकृतिक और प्रभावी सहायता मिल सकती है। ये बीज आवश्यक पोषक तत्वों, फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो हार्मोनल संतुलन और समग्र प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। आइये जानते हैं कौन से हैं वो सीड्स-

Advertisment

पीरियड रेगुलेट करने के लिए महिलाएं डाइट में शामिल करें ये बीज

1. अलसी

अलसी लिग्नान का एक पावरहाउस है, जो शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर को संतुलित करने में मदद करता है। इनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड और फाइबर भी होते हैं जो समग्र हार्मोनल स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं। रोजाना पिसे हुए अलसी के बीजों का सेवन सूजन को कम करके और नियमित ओव्यूलेशन को बढ़ावा देकर पीरियड सायकल को नियमित करने में मदद कर सकता है।

Advertisment

2. तिल

तिल लिग्नान और आवश्यक फैटी एसिड से भरपूर होते हैं, जो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर को संतुलित करने में मदद करते हैं। इनमें जिंक भी होता है, जो प्रजनन स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण मिनिरल है। आहार में तिल के बीज शामिल करने से पीरियड सायकल के नियमन में सहायता मिल सकती है और प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

3. सूरजमुखी के बीज

Advertisment

सूरजमुखी के बीजों में विटामिन ई और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होते हैं, जो दोनों ही हॉरमोन संतुलन के लिए महत्वपूर्ण हैं। विटामिन ई एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है और अंडाशय में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करता है, जबकि मैग्नीशियम प्रोजेस्टेरोन जैसे हॉरमोन के उत्पादन का समर्थन करता है। आहार में सूरजमुखी के बीज शामिल करने से नियमित पीरियड सायकल को बढ़ावा मिल सकता है और पीएमएस के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

4. कद्दू के बीज

कद्दू के बीज जिंक, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत हैं। जिंक हॉरमोन उत्पादन का समर्थन करके और सूजन को कम करके पीरियड सायकल के नियमन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड हॉरमोन के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं। कद्दू के बीजों का सेवन करने से मासिक धर्म को नियमित करने और प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

Advertisment

5. चिया सीड्स

चिया सीड्स ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। ये पोषक तत्व सूजन को कम करने और हॉरमोन संतुलन को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक हैं। चिया सीड्स का नियमित सेवन पीरियड सायकल को स्थिर करने और पीएमएस तथा अनियमित पीरियड्स से जुड़े लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

6. मेथी के बीज

मेथी के बीज अपने फाइटोएस्ट्रोजन तत्व के लिए जाने जाते हैं, जो शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर को संतुलित करने में मदद करता है। इनमें सूजन-रोधी गुण भी होते हैं जो समग्र प्रजनन स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं। मेथी के बीजों का सेवन मासिक धर्म की अनियमितताओं को प्रबंधित करने और मासिक धर्म के दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद जानकारी केवल आपकी जानकारी के लिए है। हमेशा चिकित्सा या स्वास्थ्य संबंधी निर्णय लेने से पहले किसी एक्सपर्ट से सलाह लें।

Periods seeds पीरियड रेगुलेट
Advertisment