ईसीएमओ कोविड -19 रोगियों के लिए कैसे काम करता है? • वायरस और यह शरीर को कैसे प्रभावित करता है, इसकी स्टडी से पता चला है कि अधिकांश कोविड -19 रोगियों में, जो सीरियस होते हैं, इंफेक्शन फेफड़ों में फैलता है। यह भी पता चला है कि निमोनिया या इन्फ्लूएंजा A या B के अपोजिट, कोविड -19 फेफड़ों के सभी 5 लोब्स को प्रभावित करता है।

• यदि फेफड़ों के सभी 5 लोब डैमेज हो जाते हैं, तो वे ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का ठीक से आदान-प्रदान नहीं कर सकते हैं। जैसे-जैसे शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड का लेवल बढ़ता है, वैसे ही रेस्पिरेटरी रेट भी बढ़ती है, क्योंकि मस्तिष्क इस कार्बन डाइऑक्साइड से छुटकारा पाने के लिए शरीर को अधिक सांस लेने के लिए कहता है। हालांकि, चूंकि फेफड़े डैमेज हैं और ऐसा करने में असमर्थ हैं, यह कार्बन डाइऑक्साइड ब्लड में रहता है और इसे एसिडिक बना देता है।

• जब एक मरीज को ईसीएमओ सपोर्ट पर रखा जाता है, तो ईसीएमओ मशीन के भीतर एक राइट वेंट्रिकुलर सपोर्ट डिवाइस (RVAD) और ऑक्सिजनेटर का इस्तेमाल किया जाता है।

• RVAD को रोगी के अंदर उस ट्यूब के ज़रिए रखा जाता है, जो रोगी की गर्दन से होकर, हृदय के राइट एट्रियम और राइट वेंट्रिकल से होकर पल्मोनरी आर्टरी में जाती है।

• यह ब्लड राइट एट्रियम से बाहर निकलकर ईसीएमओ मशीन में जाता है। वहां, इसे फ़िल्टर किया जाता है, तापमान-मॉड्यूलेटेड और ऑक्सीजन युक्त किया जाता है, और कार्बन डाइऑक्साइड को हटा दिया जाता है। यह ब्लड फिर पल्मोनरी आर्टरी में रखी एक ट्यूब से शरीर में फिर से प्रवेश करता है।

कोविड -19 रोगियों के लिए, यह दो चीजों को पूरा करता है।

• एक, यह हृदय के दाहिनी ओर से भार को हटा देता है, क्योंकि यह अनिवार्य रूप से बायपास हो जाता है।

• दो, फेफड़ों में जाने वाले ऑक्सीजन के लेवल को बढ़ाता है, पल्मोनरी वैस्कुलर रेजिस्टेंस को कम करता है और फेफड़ों से ब्लड को बाहर करने के लिए आवश्यक प्रेशर को कम करता है।

ECMO प्रक्रिया क्यों जरूरी है? ECMO प्रक्रिया Covid-19 

• ईसीएमओ प्रक्रिया मरीजों के शरीर को सपोर्ट करती है और उन्हें वायरस से लड़ने के लिए ज्यादा समय देती है। यह ज्यादा समय अत्यधिक बीमारी वाले रोगियों के लिए महत्वपूर्ण होता है।

• एवरेज कोविड-19 रोगी ईसीएमओ पर 10-12 दिनों तक रह सकता है।

• ईसीएमओ साइटोकाइन स्टॉर्म होने की संभावना को कम करता है – जिसमें रोगी का इम्यून सिस्टम अपने आप चालू हो जाती है – जो एक गंभीर इन्फ्लेमेटरी रिस्पांस और कई ऑर्गन फेलियर का कारण बन सकती है।

Email us at connect@shethepeople.tv