Advertisment

हमेशा खुश रहना जरूरी नहीं! दुखी होना भी ठीक है, जानें कैसे रहें खुद के साथ

दुखी हैं या परेशान हैं? जानें क्यों अपने आपको स्वीकार करना और अपनी भावनाओं को व्यक्त करना जरूरी है। साथ ही जानें छोटी खुशियों को कैसे ढूंढें और मुश्किल समय में मदद कैसे लें

author-image
Vaishali Garg
New Update
sad

It's Okay to Not Be Okay: Accepting Sadness and Disappointment: आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हमेशा खुश रहने का दबाव हम सभी पर रहता है। सोशल मीडिया पर तो हमेशा मुस्कराते चेहरे और परफेक्ट लाइफस्टाइल की तस्वीरें ही देखने को मिलती हैं। इससे ये गलतफहमी हो जाती है कि खुश रहना ही जिंदगी का असली मकसद है। लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है कि खुश ना होना भी जिंदगी का एक हिस्सा है? 

Advertisment

जी हां, ये बिल्कुल सच है। हर किसी के साथ उदासी, निराशा, गुस्सा या थकान जैसे भाव कभी ना कभी आते ही हैं। ये भाव नकारात्मक नहीं हैं, बल्कि ये इंसान होने की निशानी हैं। 

हमेशा खुश रहना जरूरी नहीं! दुखी होना भी ठीक है, जानें कैसे रहें खुद के साथ

अपने आपको स्वीकार करें (Accept Yourself)

Advertisment

पहली सीढ़ी है खुद को स्वीकार करना। ये समझना जरूरी है कि हर रोज खुश रह पाना मुमकिन नहीं है। जिंदगी में मुश्किलें आती रहती हैं और उनके चलते दुखी होना स्वाभाविक है। अपने आपको दबाएं नहीं, अपने आपको ये हक दें कि आप दुखी हो सकते हैं, आप गुस्सा हो सकते हैं, आप कमजोर महसूस कर सकते हैं। 

अपनी भावनाओं को व्यक्त करें (Express Your Emotions)

दुखी या परेशान होने पर अपने आप को अकेला ना रखें। किसी अपने से बात करें, चाहे वो दोस्त हो, परिवार का सदस्य हो या कोई थेरेपिस्ट। अपनी भावनाओं को दबाकर रखने से वो और ज्यादा बढ़ जाती हैं। बातचीत करने से आपको राहत मिलेगी और आपकी समस्या का हल निकालने में भी मदद मिल सकती है।

Advertisment

छोटी-छोटी खुशियों को ढूंढें (Find Joy in Small Things)

खुश रहने के लिए कोई बड़ी चीज़ का इंतज़ार ना करें। छोटी-छोटी खुशियों को ढूंढें। हो सकता है वो किसी प्यारे से इंसान से मुलाकात हो, पसंदीदा किताब पढ़ना हो, या फिर प्रकृति की खूबसूरती को निहारना हो। इन छोटी-छोटी खुशियों को सहेजें और उन्हें अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाएं।

अपनी देखभाल करें (Take Care of Yourself)

Advertisment

जब आप अच्छा महसूस नहीं कर रहे होते हैं, तो अपनी शारीरिक और मानसिक सेहत का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। अच्छी नींद लें, पौष्टिक खाना खाएं, थोड़ा बहुत व्यायाम करें। ये आदतें आपको एनर्जी देंगी और तनाव को कम करने में मदद करेंगी। 

मदद मांगने में कोई बुराई नहीं (It's Okay to Ask for Help)

अगर आप लंबे समय से दुखी, निराश या चिंतित हैं, तो खुद को अकेला ना समझें। किसी प्रोफेशनल मदद लेने में कोई बुराई नहीं है। थेरेपिस्ट आपकी भावनाओं को समझने और उनसे निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।

Advertisment

याद रखें, हर किसी की जिंदगी में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। ये ठीक है कि आप खुश रहना चाहते हैं, लेकिन ये भी ठीक है कि आप कभी-कभी ठीक ना हों। अपने आपको वक्त दें, खुद का ख्याल रखें और धीरे-धीरे आप फिर से खुशियाँ महसूस करने लगेंगे। 

हमेशा खुश रहना जरूरी नहीं Accepting Sadness Disappointment
Advertisment