एक सर्वे (survey ) के दौरान हमें ये पता चला कि सेक्सुअल प्रोब्लेम्स 3 में से 1 young और middle aged woman को प्रभावित करती हैं और लगभव 2 में से 1 older women को । फीमेल सेक्स लाइफ और sexual health को एक “Hushed -up topic” माना जाता हैं और  महिलाओं को इन सभी चीज़ों से परिचित काफी समय पहले ही करवा देना चाहिए था । महिलाओं को अपने शरीर , जरूरतों और dysfunctionalities को embrace करना चाहिए । सेक्सुएलिटी महिलाओं की ज़िन्दगी का हिस्सा है और इसीलिए हमें इस टॉपिक को अटेंशन देने की जरूरत है ।

image

Female Sexual Health जरूरी क्यों हैं ?

Female Sexual Health को समझना ,आपको अपने शरीर को समझने के लिए बहुत ही आवश्यक है । महिलाओं के लिए sexual health issues की जानकारी होना बहुत जरूरी है तांकि वो अपनी सेक्स लाइफ के फैसले सही ले सकें , जैसे की -वो कब प्रेगनेंट होना चाहती है या फिर वो अभी प्रेगनेंट होना नहीं चाहती हैं ?, क्या मेंस्ट्रुएशन (menstruation ) के दौरान सेक्स करना चाहिए ?,STIs और STDs के क्या chances हैं ?, क्या सेक्स करते समय दर्द का होना नार्मल होता हैं या नहीं ?, menopause के बाद sexual intercourse के दौरान ब्लीडिंग होना नार्मल होता है या नहीं ? हम सबके कई सवाल है और इसीलिए आपको आपके अपने शरीर के बारे में पता होना चाहिए ।

Gynaecologist डॉ. शीतल अग्रवाल के अनुसार , जो की एक सीनियर कंसलटेंट OBS और अपोलो स्पेक्ट्रा हॉस्पिटल के गयनेकोलॉजिस्ट है , वो कहती है की ” महिलाएं सेक्सुअल प्रोब्लेम्स  की बात करने में संकोच(Hesitate ) करती हैं और मुझे ऐसा लगता है की उनके दिमाग में इस चीज़ को बिठा दिया गया है की सेक्स के बारे में खुल कर बात नहीं करनी चाहिए ।” खासकर शहरों में इस सोच में बदलाव आया है , “अब महिलाएं खुलकर इन चीज़ों के बारे में जानकारी लेना चाहती है और अब उन्हें पता है की जिस तरह खाना नार्मल है , उसी तरह सेक्स भी हमारी जिंदगी का एक नार्मल हिस्सा हैं ।”

हम सभी इस बात को भूल जातें हैं की फिजिकल और इमोशनल हेल्थ एक दूसरे से जुडी होती है । डॉ शीतल कहती हैं की आपको अपनी sexual health problems को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए । अगर आप अपनी sexual problems को फेस नहीं करते तो वो आपकी psychological health को भी इफ़ेक्ट करती है ।

महिलाएं किन sexual problems को फेस करती हैं ?

Sexual advice association के अनुसार, sexual problems 3 में से 1 young और middle aged women को प्रभावित करती हैं और लगभव 2 में से 1 older women को । ये प्रोब्लेम्स हो सकती है , जैसे की – loss of libido , orgasm problems , vaginismus , bacterial vaginosis infection आदि ।

अगर आपको कोई sexual health रिलेटेड प्रॉब्लम हो , तो आपका क्या करना चाहिए ?

अगर आपको कोई भी Sexual Health रिलेटेड प्रॉब्लम है , तो सबसे पहले आपको उसे एकनॉलेज करना होगा क्यूंकि बहुत से लोगों की ये general tendency रहती है की वो ऐसे दिक्कतों को इगनोर करतें है और अक्सर sexual health issues को गंभीरता से नहीं लिया जाता । छोटा सा दर्द और लक्षण , किसी बड़ी बीमारी का symptom हो सकता है । तो इसीलिए ऐसे में डॉक्टरों की यही सलाह रहती है की , बिना किसी hesitation के आप checkup करवाएं और जानें के ऐसा क्यों हुआ तांकि आपको ये पता चल सकें की कोई बड़ी दिक्कत या बीमारी तो नहीं हैं ।

डॉ अंकेश R .साहित्य कहते है , “आप अपनी sexual health को लेकर बिलकुल भी शर्म महसूस न करें । महिलाओं के लिए इन बातों की जानकारी बहुत ही जरूरी है , इसी तरह वो अपनी हेल्थ को अच्छा रख पाएंगी । ” इन प्रोब्लेम्स को स्वीकारना बहुत ही जरूरी चीज़ है , क्यूंकि नजरअंदाज करने से आप अपनी सेहत को खुद खतरे में डालतें है ।” ऐसे कोई भी प्रॉब्लम होने पर आप सबसे पहले अपने फैमिली डॉक्टर या फिर एक अच्छे gynaecologist की सलाह ले और अपने checkup करवाएं तांकि gynaecologist आपको उस समस्या से छुटकारा दिलवा सकें  ।

और पढ़िए : क्या आप अपनी वजाइना के बारें में यह दिलचस्प बातें जानते हैं?

Email us at connect@shethepeople.tv