Marriage and Motherhood: क्या जरूरी है शादी करना और मां बनना?

मातृत्व अपने साथ उतार-चढ़ाव लाता है और महिला के जीवन में एक नए अध्याय की शुरुआत है। ठीक उसी तरह आपका शादी करना उन्ना करना भी आप पर निर्भर करता है। आइए जानते हैं आज के फ़ीचर्ड ब्लॉग में शादी और मदरहुड से जुड़ी कुछ जरुरी बातें-

Aastha Dhillon
04 Jan 2023
Marriage and Motherhood: क्या जरूरी है शादी करना और मां बनना?

Marriage and Motherhood

Marriage and Motherhood: मां बनना बहुत खूबसूरत एहसास होता है। जब बच्चे का जन्म होता है तो उसके साथ मां का भी नया जन्म होता है। लेकिन अगर कोई औरत मां नहीं बन सकती या वह मां नहीं बनना चाहती हैं, तो उसकी खुद की चॉइस है। आज के वक्त भी समाज दूसरों के घर के अंदर झांक कर उसे सलाह देता हैं। ठीक उसी तरह, शादी को हमारे देश में बहुत पवित्र माना जाता है। यह कहा जाता है कि एक टाइम पर हम सभी को शादी करवा लेना चाहिए। वरना आगे की जिंदगी निकालना मुश्किल हो जाता है। ऐसा जरूरी नहीं है कि आपको जिंदगी बिताने के लिए शादी की जरूरत है। उसके बिना भी आप अपनी जिंदगी बहुत अच्छे से निकाल सकते हो। जान ले शादी और motherhood से जुड़ी यह पांच चीजें 

1. स्वीकृति 

हाँ, मातृत्व और शादी को अपनाने की दिशा में यह पहला कदम है। आपकी अपनी स्वीकृति के बिना ना ही कोई आपको मां बनने के लिए विवश कर सकता है, ना ही शादी करने के लिए आप पर दवाब डाल सकता है। 




2. Financial tensions को रास्ते में न आने दें

अपनी pregnancy के बारे में सुनते ही कोई भी माँ सबसे पहले यही सोचती है कि वह अपने बच्चे को सर्वोत्तम प्रदान करे। काफी लड़कियां फाइनेंशली स्टेबल न होने के कारण भी शादी के दवाब को सहन नहीं कर पाती। इसी कारण उन्हें शादी के बंधन में बंधना पड़ता है।

3.कोई necessity नहीं है

यह समझे कि आप एक बच्चे के बिना भी पूरी हैं। एक बच्चे का होना या ना होना एक महिला की महत्ता को कभी कम नहीं कर सकता अगर आपको लगता है कि आपको बच्चा चाहिए तभी इस बारे में सोचें। कभी भी societal pressure में आकर एवं उनके ताने सुनकर कभी भी यह decision उतावली होकर ना लें। अगर आप कामकाजी हैं या फिर आप अपने आप से खुश हैं और नहीं चाहती बच्चा करना तो आपकी अपनी पसंद है, आपका अपना फैसला है।

4.व्यक्तिगत पसंद (Personal Choice)

शादी ना करना या करना किसी का पर्सनल फ़ैसला है इसको लेकर किसी को भी जज करने का हक़ नहीं है।शादी किसी की भी ज़िंदगी का बहुत ज़रूरी पार्ट जो सकता है और किसी का बिल्कुल भी नहीं। यह सिर्फ़ प्राथमिकता है कि आप अपनी लाइफ़ में किस चीज़ को दे रहे हो। किसी को यह कहना शादी एक प्रॉब्लम है इसको सॉल्व करना चाहिए मतलब कि तुम्हें अब शादी करवा लेनी चाहिए यह कहने का अधिकार किसी के पास नहीं हैं। 

5.आप इसके बिना भी पूरी हैं

एक महिला का इस समाज में बच्चा पैदा करने बस का योगदान नहीं है। बहुत-सी महिलाओं को यह ताने सुनने को मिलते हैं यदि वह बच्चा नहीं करती हैं कि वह एक बच्चे के बिना अधूरी है। तो हम आपको बता दें ऐसा बिल्कुल भी नहीं है यदि आप बच्चे नहीं कर सकती हैं या किसी कारणवश आप नहीं चाहती हैं तो यह पूरी तरीके से नॉर्मल है और अब बिना बच्चे की भी पूरी हैं।

Read The Next Article