Advertisment

इन Lifestyle problems से जूझती हैं 21वीं सदी की महिलाएं

21वीं सदी की महिलाओं को सामाजिक, आर्थिक, और प्रोफेशनल जीवन में कई समस्याएं होती हैं। यह कुछ ऐसी जीवनशैली समस्याएं हैं जो कई महिलाओं को प्रभावित कर सकती हैं।

author-image
Khushi Jaiswal
New Update
lifestyle.png

( Image credit : hindi vivek)

Lifestyle problems: 21वीं सदी की महिलाओं को सामाजिक, आर्थिक और प्रोफेशनल जीवन में कई समस्याएं होती हैं। यह कुछ ऐसी जीवनशैली समस्याएं हैं जो कई महिलाओं को प्रभावित कर सकती हैं। पर आज की महिला इन सभी दिक्कतों से निकलने में सक्षम भी है। पर उनके जीवन में ऐसी कई सारी समस्या उनको हर पड़ाव में झेलने को मिलती है। ऐसी समस्या बहुत बार महिलाओं को मानसिक तौर पर कमजोर भी बना देती है। चलिए आपको बताते है कुछ जीवनशैली की समस्या जिससे जूझती हैं महिलाएं।

Advertisment

इन जीवनशैली की समस्या का सामना करती है, 21वीं सदी की महिलाएं

1. करियर और परिवार का बैलेंस 

कई महिलाएं करियर और परिवार के बीच बैलेंस  बनाने में संघर्ष करती हैं, जो उन्हें मानसिक दबाव में डाल सकता है। कई इसमें माहिर भी हो चुकी है लेकिन अगर आप इससे डील कर रहीं हैं तो वक्त से साथ आप ये सीख जाएंगी। जरुरी है कि आप ये बैलेंस बनाए रखे क्योंकि दोनों ही चीजें आपके लिए जरुरी हैं।

Advertisment

2. सोशल मीडिया का प्रभाव

सोशल मीडिया का अधिक उपयोग करने से महिलाओं के पर्सनालिटी पर असर पड़ सकता है, जैसे कि स्वास्थ्य और मानसिक स्थिति पर इसका गहरा असर होता है। अगर कोई महिला किसी भी ट्रॉल्लिंग या साइबर बुल्लिंग से गुजरती हैं ये उसे ये काफी हानी पहुंचाता है।  

3. बढ़ती दबाव

Advertisment

 बढ़ते दबाव के कारण महिलाएं अक्सर स्ट्रेस, चिंता और अवसाद का सामना कर सकती हैं। ये दबाव कई चीजों का हो सकता है, वर्क प्रेशर, फैमिली प्रेशर, कोई रिलेशनशिप इशू जिससे महिला प्रभावित होती है। साथ ही कई बार उनपर शादी और बच्चे करना का प्रेशर भी रहता है जिससे कई महिलाएं परेशान रहती हैं। 

4. स्वास्थ्य समस्याएं

अनियमित आहार, ठीक से नींद ना लेना या आराम नहीं करना और दबाव के कारण महिलाओं को  स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता हैं। आज कल का वातावरण भी इसमें सहभागी है। महिलाओं को कई बार हेल्थ केयर फैसिलिटी ना मिल पाने के कारण भी स्वास्थ संबंधित समस्याएं होती हैं और कई इसमें अपनी जान भी गवा देती हैं।  

 5. शारीरिक सुरक्षा

शारीरिक सुरक्षा की कमी महिलाओं को संकट में डाल सकती है, जैसे कि छेड़खानी, हिंसा और उनके अधिकारों की उपेक्षा। आज कल ये काफी आम है और देश में इस मामले में महिलाओं की जो स्तिथि है वो किसी से छुपी हुई नहीं है। कई महिला फिजिकल और सेक्सुअल एब्यूज से पीड़ित हैं।

महिलाएं Lifestyle problems
Advertisment