Stop Saying These Things: बातें जो अक्सर बेटियों को बोल दी जाती हैं

भारतीय घरों में आज भी तलाक को नॉर्मलाइज नहीं किया गया है। लड़की चाहें टॉक्सिक रिलेशन में रह रही हो लेकिन फिर भी उसे उस रिश्ते में रहने की सलाह दी जाती है। बेटी की मेंटल और फिजिकल हेल्थ से ज्यादालोगों की बातों की परवाह करते हैं जो कि बिल्कुल गलत है।

Rajveer Kaur
05 Dec 2022
Stop Saying These Things: बातें जो अक्सर बेटियों को बोल दी जाती हैं

Stop Saying These Things

भारतीय घरों में अक्सर  महिलाओं को बहुत सारी ऐसी बातें कह जाती हैं जो अक्सर ही उनको दुख पहुंचा देती है। कई बार यह बातें पिता, माता भाई बहन या को उनका रिश्तेदार कोई भी कह देता है। अक्सर यह कह दिया जाता है कि औरतों को तो सब मिलता है उन्हें  किस चीज की कमी है? औरतें ड्रामे करती हैं लेकिन इसकी असल सचाई बहुत अलग है। यह बातें होती तो बहुत छोटी है लेकिन इनके मतलब बहुत गहरे निकल जाते हैं लेकिन कोई भी इन बातों को इतनी गहराई से नहीं सोचता है। आज हम आप को ऐसी बातें बताएंगे जो भारतीय घरों में बेटियों को बोल दी जाती है

Need To Stop Saying These Things: ऐसी बातें जो अक्सर बेटियों को बोल दी जाती हैं

अपने घर जाओ
अक्सर ये बेटियां की जब शादी हो जाती है तो मां-बाप या रिश्तेदार कहना चाहते हैं कि अब तुम्हें अपने घर चले जाना है लड़कियों का घर यह नहीं होता है तो फिर हम का घर कौन सा होता है? ससुराल वाले कह देते हैं कि यह तुम्हारा घर नहीं है फिर जब मायके वाले भी यह कह दे कि तुम्हारा घर नहीं यहां से जाओ तो यह बात बेटियों को बहुत ज्यादा हर्ट करती हैं।

हम डिवोर्स में तुम्हारा साथ नहीं देंगे 
भारतीय घरों में आज भी तलाक को नॉर्मलाइज नहीं किया गया है। लड़की चाहें टॉक्सिक रिलेशन में रह रही हो लेकिन फिर भी उसे उस रिश्ते में रहने की सलाह दी जाती है। यह माना जाता है कि हमारी इज्जत खराब हो जाएगी लोग क्या कहेंगे? उसका घर नहीं बसा जरूर लड़की में कोई कमी होंगी।  बेटी की मेंटल और फिजिकल हेल्थ से ज्यादा मां बाप लोगों की बातों की परवाह करते हैं जो कि बिल्कुल गलत है।

शादी सब कुछ है
लड़कियों के करियर को इतनी जल्दी नहीं दी जाती जितनी के लड़कों के करियर को दी जाती है। लड़कियों के लिए सबसे बड़ी बात उनकी शादी को मानी जाती है और घर वाले अक्सर यह बात कह देते हैं कि करियर तो ठीक है लेकिन शादी कब कर रही हो क्योंकि शादी असल जिंदगी है।

शादी में थप्पड़ इतना तो चलता है
आज भी भारतीय घरों में मार को नॉर्मलाइज किया जाता है। अक्सर लड़कियों को कह दिया जाता है कि 1- 2 थप्पड़ ही ही  फिर क्या हुआ? फिर इतना तो शादी में चलता है लेकिन एक-दो थप्पड़ से ही बात आगे बढ़ती है जितना औरतें सहन करती है उतना ही उनको दबाया जाता है।

Read The Next Article