यूनियन सर्विस पब्लिक कमीशन (UPSC) ने मंगलवार, 4 अगस्त, 2020 को रिजल्ट अन्नोउंसे किया। रिटेन टेस्ट सितंबर 2019 को आयोजित की गई थी, जबकि इंटरव्यू फरवरी 2020 से वर्ष 2020 तक आयोजित किया गया था। इन परीक्षाओं के आधार पर, कुल 829 उम्मीदवार परीक्षा दे चुके हैं। इन कैंडिडेट्स को भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय विदेश सेवा, भारतीय पुलिस सेवा और केंद्रीय सेवाओं, ग्रुप ए और ग्रुप बी में नियुक्ति के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया। इन नियुक्त उम्मीदवारों में से 150 महिलाएं हैं। फीमेल कैंडिडेट्स में UPSC Topper Pratibha Verma हैं।

image

साल 2019 का यूनियन पब्लिक सर्विस एग्जाम (UPSC) का रिजल्ट अन्नोउंसे कर दिया गया है। फीमेल कैंडिडेट्स में प्रतिभा वर्मा अव्वल रही हैं। प्रतिभा ने परीक्षा में आल इंडिया में तीसरा रैंक (AIR) हासिल किया है, जबकि ओवरआल टॉपर हरियाणा के प्रदीप सिंह हैं और उसके बाद जतिन किशोर। तीन महिला उम्मीदवारों ने रैंक होल्डर्स की टॉप टेन लिस्ट में अपनी जगह बनाई। जबकि प्रतिभा वर्मा ने तीसरा और विशाखा यादव और संजीता महापात्रा ने छठा और दसवां रैंक हासिल किया। आइये जानते हैं यूपीएससी टोपर प्रतिभा वर्मा के बारे में दस महत्वपूर्ण बातें।

जानिए UPSC Topper Pratibha Verma के बारे में 10 ज़रूरी बातें

1.प्रतिभा बेसिकली सुल्तानपुर से हैं और वो हमेशा से एक आईऐएस अफसर बनना चाहती थी।

2. प्रतिभा एक आईआरएस अफसर हैं और उन्होंने एग्जाम की प्रिपरेशन के लिए लीव ली थी।

3. प्रतिभा आईआईटी- दिल्ली से 2014 में पास्ड आउट है।

4. उन्होंने दो साल तक एक प्राइवेट फर्म में जॉब भी की है ताकि वो एक्सपीरियंस गेन कर सके।

5. उनके माता -पिता उनके लिए उनकी मोटिवेशन का सोर्स हैं और उन्होंने ही उन्हें सिविल सर्विसेज में जाने के लिए प्रोत्साहित किया।

6.उनके पिता सुबनश वर्मा कुछ महीने पहले एक सरकारी इंटर कॉलेज में इंग्लिश टीचर के रूप में रिटायर हुए थे।

7. उनकी मां उषा वर्मा सुल्तानपुर के एक सरकारी स्कूल में एक हेड टीचर हैं. उनकी बड़ी बहन भी एक डॉक्टर है और उनके दो भाई हैं जिनमे से एक वर्किंग है और दूसरा पढ़ाई कर रहा है।

8. प्रतिभा ने पिछले साल भी यूपीएससी का एग्जाम दिया था और 498 रैंक हासिल की थी। प्रतिभा ने अपनी गलतियों को रेअलाइज़ किया और पूरी मेहनत की।

9. वह विशेष रूप से अपने होम टाउन उत्तर प्रदेश में महिला सशक्तीकरण और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर काम करना चाहती हैं।

10. प्रतिभा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वो हमेशा से ही आईएएस ऑफिसर बनना चाहती थी क्यूंकि वो उनसे बहुत प्रेरित है। उनका मानना है कि COVID संकट के दौरान भी IAS अधिकारी फ्रंटलाइन पर काम कर रहे हैं और जरूरतमंदों को भोजन प्रदान कर रहे हैं। इससे वो प्रेरित होती हैं.

और पढ़ें: डोमेस्टिक हेल्प की बेटी नंदिता हरिपाल ने झारखंड बोर्ड में किया टॉप

Email us at connect@shethepeople.tv