पीरियड्स एक महिला के जीवन का जरुरी पहलू होता है।  पीरियड्स को महीना भी कहा जाता है।  इस दौरान जो महिलाएँ उम्र पंद्रह के ऊपर की होती है उनके शरीर के मेन पार्ट से पांच से साथ दिन के लिए ब्लड निकलता है। जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है तो यही खून बच्चे के निर्माण में लग जाता है और फिर 9 महीने के लिए उस महिला को पीरियड्स नहीं आते। यह बहुत ही नेचुरल प्रक्रिया है पर इस के बारे में काफी पीरियड मिथ्स भी है जिसके बारे में हम आज बात करेंगे :

image

1.   पीरियड कोई बीमारी नहीं है नेचुरल प्रक्रिया है

ज्यादातर लोग पीरियड्स को एक बीमारी की तरह मानते हैं जो की गलत है। इस प्रोसेस के टाइम पर महिलाओं को पेट दर्द और शारीरिक दर्द जैसी दिक्कते होता है पर उस से कोई नुकसान नहीं होता और उसके लिए कोई दवाई लेना अवॉयड करना चाहिए जब तक ज्यादा ज़रूरी न हो।

2.   पीरियड के दौरान आप प्रेग्नेंट हो सकते है

काफी लोगो को ये भ्रम होता है कि जब उनके पीरियड्स चलते है तो वो उस टाइम प्रेग्नेंट नहीं हो सकते पर ऐसा नहीं वो प्रेग्नंट हो सकते है तो अपना ख्याल रखे और इस बात को दिमाग में रखें।

5 पीरियड मिथ्स जिनसे हमें लड़ना है

3.  पीरियड्स के वक़्त अचार छूने से वो ख़राब नहीं होता

हमारे घरेलु जीवन मे हमारी मम्मी और दादी से ऐसा बताया जाता कि अचार नहीं छूना चाहिए वरना वो ख़राब हो जाता है पर ऐसा कुछ भी नहीं है सिर्फ ये पीडियों से चली आ रहे मिथ्स हैं।

4.   पीरियड के लिए कोई स्पेशल लाइफस्टाइल फॉलो नहीं करनी होती

पीरियड आना एक आम प्रक्रिया हैं इसके लिए कॉपी अलग से लाइफस्टाइल या डाइट फॉलो नहीं करनी होती और हम अपने डेली के काम वैसे ही जारी रख सकते हैं।

5.  पीरियड्स के वक़्त आप अशुद्ध होते हो

ये भी एक मिथ ही है जो की काफी घरों मे स्ट्रॉन्ग्ली फॉलो किया जाता है की पीरियड्स में महिला अशुद्ध होती है और वो किचन और मंदिर जैसी जगह पर नहीं जा सकती।

 
 
  
Email us at connect@shethepeople.tv