मदरहुड एक ऐसी जिम्मेदारी है  जिसे निभाने की बात सुनते ही आज के जमाने की कई लड़कियां घबरा जाती हैं। यही वजह है कि वे तब तक मां बनने के बारे में नहीं सोचती जब तक वे पूरी तरह से इसके लिए तैयार न हो जाएं। यह सिर्फ लड़कियों या महिलाओं की ही बात नहीं है बल्कि कई पुरुष भी ऐसा ही सोचते हैं। शहरी क्षेत्रों के ज्यादातर कपल्स शादी के कई सालों बाद तक सिर्फ इसलिए पैरंटहुड को नहीं अपनाते क्योंकि उन्हें लगता है कि वे अभी इस जिम्मेदारी के लिए तैयार नहीं हैं। लेकिन पति-पत्नी दोनों की हेल्थ के हिसाब से देखा जाए तो बच्चे होने का भी एक सही समय होता  हैं। क्या अपने कभी इस बारे में सोचा है कि शादी के कितने दिनों बाद करनी चाहिए बच्चे की प्लानिंग? अगर नहीं तो आइये जानते है कि शादी के कितने दिनों बाद करनी चाहिए बच्चे की प्लानिंग :

image

1. अगर 20 साल से पहले हो जाए शादी:

20 साल की उम्र से पहले किसी भी लड़की को मां नहीं बनना चाहिए। WHO के मुताबिक, दुनियाभर में प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली डिफीकल्टीज से होने वाली मौतों में 15 से 19 साल की लड़कियां सबसे ज्यादा होती हैं। अगर पहली बार मां बनने वाली लड़की की उम्र 20 साल से कम है तो उसके होने वाले बच्चे की मौत का रिस्क कई गुना बढ़ जाता है। इमोशनली और साइकॉलजिकली भी 20 साल से कम उम्र में माता-पिता बनना सही नहीं होता हैं |

2. 20-25 साल के बीच हो शादी:

अगर आपकी शादी 20 से 25 साल के बीच होती है तो आप शादी के तुरंत बाद बच्चे की प्लानिंग कर सकते हैं क्योंकि यह गर्भधारण (Gestation) का सबसे सही समय होता हैं।25 से 30 कि उम्र में दोनों महिला और पुरुष के होर्मोनेस काफी एक्टिव होते हैं इसलिए इस समय प्रेग्नेंट होने से सेहत कहरब होने का खतरा भी कम होता है। साथ ही 25 साल की उम्र आते-आते कपल्स फाइनैनशियली भी थोड़े स्टेबल हो जाते हैं और बच्चे की जिम्मेदारी उठा सकते हैं।

और पढ़िए : कैसे करे बच्चो के भविष्य और पढाई की फाइनेंशल प्लानिंग ? जानिए 7 जरुरी टिप्स

3. जब 25-30 साल के बीच हो शादी

अगर आपकी शादी 25 से 30 साल के बीच होती  हैं तो आप शादी के तुरंत बाद बच्चे की प्लानिंग कर सकते हैं। ज्यादातर कपल्स का मानना    हैं कि बच्चे के जन्म के लिए यह सबसे सही उम्र  होती  हैं। हालांकि स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो यह उम्र आते-आते महिलाओं की  फर्टिलिटी कम होने लगती है और महिला के प्रेग्नेंट होने के चांसेज कम होने लगते हैं। जहां तक पुरुषों के स्पर्म क्वॉलिटी का सवाल है तो यह पूरी तरह से उनके लाइफस्टाइल पर निर्भर करता हैं। अगर पुरुष शराब और सिगरेट का सेवन करता हैं या उन्हें कोई स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या है तो इसका उनके स्पर्म पर भी असर पड़ता  हैं।

4. 35 से 40 साल के बीच अगर हो शादी

इस उम्र में शादी करने के बाद और बच्चे की प्लानिंग करने से पहले अपनी और अपने पार्टनर की अच्छी तरह से जांच करवा लें ताकि यह पता चल सके कि आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देने के लिए पूरी तरह स्वस्थ हैं या नहीं। इस उम्र में अगर आप बच्चे को जन्म देने के बारे में सोचते हैं तो होने वाले बच्चे में डाउन सिंड्रोम और ऑटिज्म का खतरा बढ़ सकता है। साथ ही गर्भवती स्त्री के गर्भपात (miscarriage) का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता  हैं।

इस आर्टिकल में हमने जाना कि  शादी के कितने दिनों बाद करनी चाहिए बच्चे की प्लानिंग।

और पढ़िए : क्या आप वर्कलाइफ और पर्सनल लाइफ को बैलेंस करना चाहते हैं? ये हैं 6 आसान तरीके

Email us at connect@shethepeople.tv