फ़ीचर्ड

कैसे करे कोरोना काल में नवजात शिशु की देखभाल? जानिए ये 3 बेहतरीन टिप्स

Published by
Nayan yerne

आज दुनियाभर में कोरोना की वजह से हड़कंप मचा हुआ है। कोरोना महामारी की वजह से हर कोई परेशान हैं। लेकिन इस मुश्किल वक्त में भी कई नई जिंदगियां खिलखिला रही हैं। आप भी कई बार सोचते होंगे की कैसे करे कोरोना काल में नवजात शिशु की देखभाल? बहुत सी मां कोरोना वायरस से संक्रमण के इस दौर में बच्चे को जन्म दे रही हैं, ऐसे में उन्हें अपने साथ नवजात की भी चिंता रहती है। तो फिर आइये जानते हैं कैसे करे कोरोना काल में नवजात शिशु की देखभाल :

कैसे करे कोरोना काल में नवजात शिशु की देखभाल

1 . सोशल डिस्टेंसिंग:

अपने घर आए नए मेहमान (शिशु) को कोविड 19 से बचाने के लिए सबसे बेहतर तरीका है सोशल डिस्टेंसिंग। अगर आप अपने शिशु को सभी को दिखाने या सबसे मिलाने के लिए उत्साहित हैं तो इसके लिए आप सोशल मीडिया एप जैसे कि स्काइप, व्हट्सएप वीडियो कॉल, फेसबुक वीडियो कॉल, फेसटाइम या ज़ूम का सहारा ले सकते हैं। जो लोग आपके घर में पहले से मौजूद हैं उन्हें अच्छे से हाथ धोने और साफ सफाई के बाद ही शिशु को छूने दें।

2. घर के बाहर किसी से ना मिलाये :

अगर आपके घर में ही किसी में कोविड 19 के लक्षण नजर आ रहे हैं तो उसे बच्चे और परिवार से थोड़ा दूर रखें। आप उसे क्वारंटाइन भी कर सकते हैं। बच्चे को बाहर ले जाने से परहेज करें ताकि वो किसी भी तरह से वायरस के संपर्क में ना आए। ग्रोसरी या बाकी चीजों की शॉपिंग ऑनलाइन करें।

और पढ़िए : माता-पिता के झगड़े से बच्चों पर क्या असर पड़ता है ? जाने ये 10 बातें

3. स्तनपान करते समय सावधान रहे :

नवजात शिशु के लिए मां का स्तनपान करना काफी जरूरी होता है।  हालांकि, कोरोना वायरस श्वसन बूंदों (respiratory droplets) के जरिए फैलता है जो स्तनपान के दौरान एक मां से उसके बच्चे में आसानी से  ट्रांसमिट हो सकता है। जिन माओं में COVID-19 के लक्षण कन्फर्म हैं, जो COVID-19 संदिग्ध हैं या जिनके COVID-19 टेस्ट के नतीजे आने वाले हैं, उन्हें बच्चे को स्तनपान कराते वक्त इस बात का विशेष ख्याल रखना चाहिए कि यह श्वसन बूंदों (respiratory droplets) के जरिए शिशु में ना फैले। ऐसे में बच्चे को छूने से पहले हाथ धोना और स्तनपान करते समय फेस मास्क पहनना जैसे एहतियात (precaution) शामिल हैं। अगर मां शिशु को स्तनपान करा रही हैं या हाथ से दूध निकाल रही है, तो उसे किसी भी बोतल या पंप के हिस्सों को छूने से पहले अपने हाथों को धोने चाहिए। अगर मां पूरी तरह स्वस्थ है तो वह शिशु को स्तनपान करा सकती हैं ।

महामारी के इस दौर में मांओं को सकारात्मक होना पड़ेगा । उन्हें समझना चाहिए कि ये दौर भी ग़ुज़र जाएगा। इसीलिए खुद का ख्याल रखना न भूलें। परिवार के साथ समय बिताएं और खुश रहें। याद रखें कि परिवार के साथ बिताए ये लम्हे वापस नहीं आएंगे। आप खुश रहेंगे, तो बच्चे पर भी इसका सकारात्मक असर पड़ेगा।

इस आर्टिकल में हमने जाना कि कैसे करे कोरोना काल में नवजात शिशु की देखभाल।

और पढ़िए :क्या आपके बच्चे का यौन शोषण हुआ है ? बाल यौन शोषण के लक्षण क्या हैं ?

Recent Posts

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

साल 1994 में सुष्मिता सेन ने भारत के लिए पहला "मिस यूनिवर्स" खिताब जीता था।…

14 mins ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

2 hours ago

टोक्यो ओलंपिक : पीवी सिंधु सेमीफाइनल में ताई जू से हारी, अब ब्रॉन्ज़ मैडल पाने की करेगी कोशिश

ओलंपिक में भारत के लिए एक दुखद खबर है। भारतीय शटलर पीवी सिंधु ताई त्ज़ु-यिंग…

3 hours ago

वर्क और लाइफ बैलेंस कैसे करें? जाने रुटीन होना क्यों होता है जरुरी?

वर्क और लाइफ बैलेंस - बहुत बार ऐसा होता है जब हम अपने काम में…

3 hours ago

योग क्यों होता है जरुरी? जानिए अनुलोम विलोम करने के 5 चमत्कारी फायदे

अनुलोम विलोम करने से अगर आपके फेफड़ों में किसी तरह की कोई विषैली गैस होती…

4 hours ago

फ्रेंड्स लाइफ में क्यों जरुरी होते हैं? जानिए इसके 5 कारण

हर किसी की लाइफ में दोस्त एक सपोर्ट की तरह काम करते हैं। कोई भी…

4 hours ago

This website uses cookies.