तमिलनाडु के मदुरै में एक सैलून चलाने वाले व्यक्ति की बेटी एम नेत्रा को यूनाइटेड नेशंस एसोसिएशन फॉर डेवलपमेंट एंड पीस (UNADAP) के लिए “गुडविल एंबेसडर टू द पुअर” के रूप में अपायंट किया गया है।

image

कोरोनोवायरस लॉकडाउन के बीच, इतनी मुश्किलों के बावजूद जरुरतमंदों की मदद करने के लिए, लड़की ने अपने पिता को 5 लाख रुपये देने के लिए कहा, जिसे उसकी पढ़ाई के लिए बचाया गया था।

स्टेट मिनिस्टर सेलुर राजू ने कहा कि वह मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी से कहेंगे कि वह स्वर्गीय मुख्यमंत्री जे. जयललिता के नाम पर उन्हें एक अवार्ड से सम्मानित करेंगे।

प्रधानमंत्री की प्रशंसा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उनके ‘मन की बात’ कार्यक्रम के ब्रॉडकास्ट में उनकी और उनके परिवार की प्रशंसा भी की गई। “श्री मोहन जी मदुरै में एक सैलून चलाते हैं। अपनी मेहनत से, उन्होंने अपनी बेटी की शिक्षा के लिए पाँच लाख रुपये बचाए थे। लेकिन उन्होंने पूरी राशि जरूरतमंदों की सेवा में खर्च कर दी। “

और पढ़ें – तीन माइग्रेंट वर्कर्स को घर भेजने के लिए बारह वर्षीय नोएडा गर्ल ने फ्लाइट बुक की

यूनाइटेड नेशन के सम्मेलन में बात करने का मौका मिलेगा..

UNADAP ने कहा कि नेत्रा को न्यूयॉर्क और जेनेवा में यूनाइटेड नेशन के सम्मेलन में बात करने का अवसर दिया जाएगा। यह अवसर उसे गरीब लोगों तक पहुंचने के लिए मदद करेगा।

इसके अलावा, नेत्रा को ‘DIXON’ एजेंसी ने  1 लाख रुपये की स्कॉलरशिप भी दी।

द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए एक सिविल सर्वेंट बनने की चाह रखने वाले नेत्रा ने कहा कि, “शुरू में, हम अवसर के महत्व को नहीं समझते थे। हमारा एकमात्र उद्देश्य गरीबों की मदद करना था। लेकिन अब सबने मुझे लोगों की सेवा करने के लिए एक तरह की एनर्जी दी है।

नेत्रा के लिए यह सफर आसान नहीं रहा है। 2013 में, कुछ लोगों ने उसके पिता के पैसे चुरा लिए थे और हालात इतने खराब थे कि उन्हें पानी खरीदने के लिए पैसे भी नहीं बचे थे। उन्हें अपनी स्थिति संभालने में और उच्च पढ़ाई के लिए पर्याप्त बचत करने में सात साल लग गए। उन्होंने यह भी कहा कि वह गरीबों की सेवा करती रहेंगी।

और पढ़ें – मेजर सुमन गवानी यूनाइटेड नेशंस मिलिट्री जेंडर अवार्ड जीतने वाली पहली भारतीय पीसकीपर

Email us at connect@shethepeople.tv