ड्राई फ्रूट्स में किशमिश के बिना बहुत अधूरा लगता है ।किशमिश का इस्तेमाल सिर्फ Nutrients की आवश्यकता को पूरा करने लिए ही नहीं , बल्कि बहुत सी sweet dishes और desserts को गार्निश (garnish) करने के लिए भी किया जाता हैं। किशमिश भले ही दिखने में छोटा सा दिखाई देता है ,यह Nutrients और मिनरल्स से भरपूर होते है और हमारी हैल्थ और शरीर को कई फ़ायदे देता है (kishmish ke fayde), जिन्हे जानकर आपको हैरानी होगी।

image

किशमिश के 5 फ़ायदे (kishmish ke fayde)

1. कब्ज़ (constipation) से छुटकारा :

किशमिश में पाएं जाने वाला फाइबर insoluble होता है , और जब आप किशमिश खाते है , तो इन्टेक प्रोसेस के दौरान “natural fluids ” के कारण , किशमिश आपके शरीर में जा कर swell- up हो जाती है। इसी कारण , जब खाना gastrointestinal track से गुजरता है , तो नैचुरली ही आपको कब्ज़ से राहत मिल जाती हैं। किशमिश की मदद से सिर्फ़ कब्ज़ ही नहीं बल्कि “loose motions ” जैसी दिक्कतें भी ठीक हो जाती हैं।

2. कैंसर से बचाव :

किशमिश में catechin काफ़ी मात्रा में पाया जाता है , जो कि एक एंटीऑक्सीडेंट है जिससे शरीर के फ्री रेडिकल्स को आसानी से ख़त्म किया जा सकता हैं। जिसका मतलब है कि शरीर के ऑर्गन सिस्टम्स और सेल्स का डिस्ट्रक्शन भी रुक जाएगा। अगर आप अपनी रोज़ाना डाइट में किशमिश को भी जोड़ ले , तो इससे आपके शरीर में “catechin ” की मात्रा बढ़ेगी और आपको कैंसर जैसी बिमारियों से बचाएगी।

3. हाइपरटेंशन से राहत :

किशमिश में पोटैशियम बहुत ही अच्छी मात्रा में पाया जाता हैं। इसे खाने से आपके शरीर की पोटैशियम Nutrient की ज़रूरत पूरी हो जाएगी।आप शांत रहने लगेंगे क्योंकि पोटैशियम टैंशन बिल्डिंग को रोकता हैं। किशमिश खाने से आपका ब्लड प्रैशर लेवल सही रहेगा और किशमिश में पाएं जाने वाला डाइट फाइबर , ब्लड वेसल्स (vessels) की स्टिफनेस (stiffness)को कम कर देता है , जिससे आपको हाइपरटेंशन से राहत मिलती हैं।

4. एनीमिया से बचाव :

अगर आप एनीमिया के मरीज़ है, तो आपको ये जानकर ख़ुशी होगी कि किशमिश आयरन रिच प्रोडक्ट है और आयरन एनीमिया में आपके शरीर के लिए काफ़ी अच्छा माना गया है और डॉक्टरों की सलाह भी यही कहती है कि आप किशमिश का कंज़म्प्शन ज़रूर करे या फिर वो खाना खाएं जिससे आपके शरीर में आयरन की ज़रूरत पूरी हो सके।

5. इन्फेक्शन्स का इलाज :

इन्फेक्शन्स को ट्रीट करने के लिए सबसे ज़रूरी “Anti inflammatory antioxidants” होते हैं। किशमिश में पाएं जाने वाले “पॉलीफेनोलिक फाइटोन्यूट्रिएंट्स (polyphenolic phytonutrients)” भी एंटी इंफ्लेमेटरी एंटीऑक्सिडेंट्स का काम करतें है और इसलिए जब शरीर में किसी भी इन्फेक्शन का कोई प्रभाव पड़ता है ,जैसे की – बुखार तो ये एंटीऑक्सिडेंट्स उस बैक्टीरिया को ही ख़त्म कर देते है , जिसके कारण शरीर में बुखार का लक्षण दिखाई दे रहा होता हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv