Period Symptoms Women Should Not Ignore: पीरियड से जुड़े कुछ लक्षण जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए

Period Symptoms Women Should Not Ignore: पीरियड से जुड़े कुछ लक्षण जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए Period Symptoms Women Should Not Ignore: पीरियड से जुड़े कुछ लक्षण जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए

SheThePeople Team

20 Oct 2021




Period Symptoms Women Should Not Ignore:  हर महिला के पीरियड्स अलग होते हैं। पीरियड्स हर लड़की के लिए हर महीने की जंग है। पीरियड्स आसान नहीं होते हैं। पीरियड्स कई महिलाओं में दर्द और गंभीर परेशानी पैदा कर सकते हैं जैसे की क्रैंप्स, सिरदर्द, बॉडी पेन, आदि। कुछ महिलाओं को क्रैंप्स ज्यादा होते हैं और कुछ को नहीं, कुछ को ब्लीडिंग ज्यादा होती है और कुछ जो सामान्य। जब तक आपके पीरियड्स लगातार बने रहते हैं, तब तक उनके बारे में चिंता करने का कोई कारण नहीं है लेकिन अगर आपको नीचे दिए गए लक्षणों में से कोई भी नजर आए तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

पीरियड्स के इन 5 लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए (Period Symptoms Women Should Not Ignore)


1. स्किप्ड पीरियड्स


ज्यादातर महिलाओं को नियमित पीरियड होते हैं जो कि हर 28 दिनों में लगभग एक बार होते हैं लेकिन किन्हीं महिलाओं और लड़कियों में पीरियड्स स्किप हो जाते हैं कभी एक महीने तो अभी दो महीने के लिए। पीरियड स्किप होने का एक कारण प्रेग्नेंसी होता है लेकिन अगर आप प्रेग्नेंट नहीं हैं और आपको पीरियड मिस होता है तो आपको डॉक्टर से चेकअप करना चाहिए। पीरियड स्किप होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे हॉरमोनल असंतुलन, तनाव, ओवरी में सिस्ट का बढ़ना, आदि। इसलिए चेकअप जरूर करना चाहिए।


2. हैवी ब्लीडिंग


हर महिला के पीरियड्स में ब्लड की मात्रा अलग-अलग होती है। पीरियड्स में कई महिलाओं को हैवी ब्लीडिंग की समस्या का सामना करना पड़ता है। हैवी ब्लीडिंग में महिलाएं एक घंटे के अंदर 2 पैड इस्तमल कर लेती हैं। हैवी ब्लीडिंग में लगातार ब्लड लॉस और क्रैंप्स के कारण महिलाएं अपनी सामान्य गतिविधियां नहीं कर पाती हैं। हैवी ब्लीडिंग के कारण आपको एनीमिया के लक्षण हो सकते हैं, जैसे थकान या सांस लेने में तकलीफ। 


3. असहनीय क्रैंप्स 


क्रैंप्स, पीरियड्स का एक सामान्य हिस्सा है। क्रैंप्स यूटरिन के कॉन्ट्रैक्शन के कारण होते हैं। क्रैंप्स आमतौर पर आपके पीरियड्स शुरू होने से एक या दो दिन पहले शुरू होते हैं, और दो से चार दिनों तक चलती है। कुछ महिलाओं के लिए क्रैंप्स हल्के और परेशानी का विषय नहीं होते लेकिन दूसरों में क्रैंप्स काफी गंभीर हो सकते हैं। अगर आपको असहनीय पीरियड क्रैंप्स होते हैं तो आपके लिए यह चिंता का विषय है। असहनीय क्रैंप्स होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे यूटरिन फाइब्रॉयड और हार्मोनल असंतुलन। इस स्तिथि में आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 


4. पीरियड्स के बीच में स्पॉटिंग


पीरियड ख़तम होने के बाद और अगले महीने के शुरू होने से पहले अगर आपको स्पॉटिंग हो तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। पीरियड्स के बीच में स्पॉटिंग या ब्लीडिंग होने के कुछ कारण हो सकते हैं जैसे हॉरमोनल बदलाव, चोट, मिसकैरिज की वजह से हो सकती है। आगर आपको पीरियड्स के बीच में स्पॉटिंग हो तो डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।


5. अत्यंत काम या ज्यादा पीरियड्स


सामान्य अवधि दो से सात दिनों तक कहीं भी रह सकती है आपकी उम्र के हिसाब से। छोटी पीरियड साइकिल के बारे में चिंता की कोई बात नहीं होती अगर आपके हमेशा से ऐसा साइकिल ही रहा है। अगर आप मेनोपॉज में जाने से आपके सामान्य चक्र प्रभावित हो सकता है। लेकिन अगर आपकी पीरियड सिस्कल अचानक बहुत कम हो जाती है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। इसके साथ ही अगर आपके पीरियड सात दिन से ज्यादा होते हैं तब भी यह चिंता का विषय बन सकता है।


अनुशंसित लेख