Positive Period Mindset: पीरियड्स के दौरान सकारात्मक रहने के लिए इन गतिविधियों को करना चाहिए

Positive Period Mindset: पीरियड्स के दौरान सकारात्मक रहने के लिए इन गतिविधियों को करना चाहिए Positive Period Mindset: पीरियड्स के दौरान सकारात्मक रहने के लिए इन गतिविधियों को करना चाहिए

SheThePeople Team

01 Oct 2021


Positive Period Mindset:  पीरियड्स से होने वाला मानसिक और शारीरिक तनाव को महिलाओं को हर महीने सेहना पड़ता है इसलिए पीरियड्स में एक पॉजिटिव ऐटिट्यूड होना बहुत जरूरी है यह आपके शारीरिक दर्द को कम नहीं कर सकता लेकिन आपको अच्छा मेहसूस कराने में मदद करेगा। यहां कुछ छोटे-छोटे अभ्यास और गतिविधियां बताई जा रही हैं दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए जो काफी मज़ेदार भी हैं।  

पीरियड्स के दौरान सकारात्मक रहने के 5 तरीके: Positive Period Mindset


1. पैंपर करें

पीरियड टाइम खुद को पैंपर करने का सबसे अच्छा समय है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ता है इसलिए अपने आप को बेहतर मेहसूस कराने के लिए आपको जो करना पसंद है वो करना चाहिए। पीरियड्स में अक्सर मानसिक और शारीरिक तनाव बढ़ जाता है इसलिए अपने आप को पैंपर कर सारी थकान से दूर कर ले। मैनीक्योर, पेडीक्योर, शॉपिंग, सोफे पर बैठ कर टीवी देखना जो मन चाहे वो कर सकते हो। 

2. कुछ नया सीखें

पीरियड्स में अक्सर लड़कियां कुछ ऐसा करना चाहती हैं जिससे उनका पीरियड्स की दर्द, क्रैंप्स पर ध्यान ना जाए और ये तभी मुमकिन है जब आप कुछ नया और दिलचस्प करते हैं। इसलिए पीरियड्स में माइंड को फ्रेश और हेल्दी रखने के लिए कुछ नया करना चाहिए। जेसे की अपना मन पसंद खाना बनाना, पेंटिंग करना, वीडियो गेम्स खेलने। 

3. एक दोस्त से बात करो 

पीरियड्स के दौरान एक महिला कही सारे इमोशनल फेसिस का सामना करती है इसलिए अपने दिल की बात या परेशानी को दूसरों से बाटने से घबराना नहीं चाहिए। एक दोस्त से बात करके आपको हल्का मेहसूस होगा, अच्छी यादें बनेगी और आप उस खुशी के समय में अपने दुख को भुल जाएंगे। 

4. योग और ध्यान

योग हमारे शरीर, मन और आत्मा को शुद्ध और मजबूत बनाता है। योग से कही बीमारियां ठीक की जा सकती है। योग हमारे मन को शांति प्रदान करता है। पीरियड्स में योग और ध्यान लगाना काफी फायदेमंद साबित होता है। यह मन और शरीर में पॉजिटिविटी और मजबूती प्रदान करता है। पीरियड्स में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए रोज़ाना योग करना चाहिए और ध्यान लगाना चाहिए। 

5. पीरियड्स को ट्रैक करें

पीरियड्स को ट्रैक करने का सीधा सा मतलब है कि अपने पीरियड्स के समय(डेट) का रिकॉर्ड रखना और अपने चक्र से संबंधित अन्य जानकारी का ध्यान रखना। ऐसा करना आपको मानसिक रूप से तैयार करता है क्युकी आपको पता होता है कि आपके पीरियड्स नजदीक हैं और आप अपने साथ पैड और टैम्पोन और जरूरी चीजें रख लेते हैं। 





अनुशंसित लेख