Side Effects Of Hormonal Contraception: जानिए हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन के साइड इफेक्ट्स के बारे में

Swati Bundela
09 Nov 2021
Side Effects Of Hormonal Contraception: जानिए हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन के साइड इफेक्ट्स के बारे में


Side Effects Of Hormonal Contraception: हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन एक प्रकार का बर्थ कण्ट्रोल जो गर्भावस्था को रोकने के लिए हॉर्मोन्स का प्रयोग करता है। हार्मोनल गर्भ निरोधकों में केवल एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन या प्रोजेस्टेरोन होते हैं। वे ओवरीज़ से अंडे को रिलीज़ होने से रोकता है।


हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्टिव्स को ओरली लिया जा सकता है, इंजेक्शन लगाया जा सकता है या स्किन के नीचे डाला जा सकता है, स्किन पर पैच के रूप में रखा जा सकता है, या वजाइना या गर्भाशय में भी रखा जा सकता है। यूँ तो हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन का इस्तेमाल अनचाही प्रेगनेंसी को अवॉयड करने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके बहुत से नुकसान भी होते हैं। आइये जानते हैं उन साइड इफेक्ट्स के बारे में:

जानिए हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन के साइड इफेक्ट्स के बारे में ( Side Effects Of Hormonal Contraception )


1. पीरियड्स के बीच स्पॉटिंग


इसमें आपको पीरियड्स के बीच वजाइना से खून आने जैसा लगता है। यह हल्का ब्लीडिंग या ब्राउन डिस्चार्ज जैसा लग सकता है। यह कॉन्ट्रासेप्टिव्स का सबसे कॉमन साइड इफ़ेक्ट है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर हार्मोन के बदलते लेवल्स के साथ तालमेल बिठा रहा होता है, और यूट्रस एक पतली परत में एडजस्ट हो रहा होता है।


2. नौसीया या मतली


कुछ लोगों को पहली बार गोली लेते समय नौसीया का अनुभव होता है, लेकिन यह आमतौर पर कम हो जाता है। गोली को खाने के साथ या सोते समय लेने से मदद मिल सकती है। बर्थ कण्ट्रोल लोगों को हर समय बीमार महसूस नहीं करवाता। अगर नौसीया बहुत सिरियस है या कुछ महीनों तक रहता है, तो डॉक्टर की सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।


3. ब्रेस्ट्स में टेंडरनेस होना 


गर्भनिरोधक गोलियां लेने से अक्सर ब्रेस्ट्स में टेंडरनेस होने लगती है, खासकर जब उन्हें लेना शुरू ही किया गया हो। सपोर्टिव ब्रा पहनने से ब्रेस्ट की टेंडरनेस को कम करने में मदद मिल सकती है। ब्रेस्ट्स में सेंसिटिविटी बढ़ाने के साथ साथ, कॉन्ट्रासेप्टिव्स में मौजूद हार्मोन ब्रेस्ट्स को बड़ा कर सकते हैं।


4. सिरदर्द और माइग्रेन


गर्भनिरोधक गोलियों में मौजूद हार्मोन सिरदर्द और माइग्रेन को बार-बार पैदा कर सकते हैं या बढ़ा सकते हैं। फीमेल सेक्स हार्मोन (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) में परिवर्तन माइग्रेन को ट्रिगर कर सकता है। इसके सिम्पटम्स डोज़ और गोली के प्रकार पर डिपेंड कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, कम डोज़ वाली गोलियों से सिरदर्द और माइग्रेन के होने की संभावना कम होती है। दूसरी ओर, यदि किसी व्यक्ति का माइग्रेन पीएमएस से जुड़ा है, तो गोली लेने से वास्तव में उसके लक्षण कम हो सकते हैं।


5. वजन बढ़ना


हॉर्मोनल कॉन्ट्रासेप्टिव्स से वजन बढ़ने को सबसे कॉमन साइड इफ़ेक्ट के रूप में देख जाता है, हालांकि रेसर्चेस ने अभी तक इसको कन्फर्म नहीं किया है।


6. पीरियड्स का मिस होना 


बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने से पीरियड्स बहुत हल्के हो सकते हैं या पीरियड्स मिस हो सकते हैं। यह उनमें मौजूद हार्मोन के कारण होता है। बर्थ कंट्रोल के प्रकार के आधार पर, लोग सुरक्षित रूप से एक पीरियड को छोड़ने के लिए गोली को यूज़ कर सकते हैं। अगर किसी को डाउट है कि वे प्रेगनेंट हो सकते हैं, तो प्रेगनेंसी टेस्ट करना सबसे अच्छा है।


Side Effects Of Hormonal Contraception: इसके अलावा और भी कई तरह के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। जैसे: ब्रैस्ट कैंसर, एंडोमेट्रियल कैंसर, सर्वाइकल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। कॉम्बिनेशन पिल्स दिल का दौरा, स्ट्रोक और ब्लड क्लॉट जैसी सीरियस हार्ट प्रॉब्लम्स का खतरा थोड़ा बढ़ा सकती हैं। कुछ गोलियों से रिस्क ज़्यादा हो जाता है। एक गयनेकोलॉजिस्ट अच्छी और सही सलाह दे सकता है।


 





अनुशंसित लेख