फ़ीचर्ड

क्या CBSE टॉपर्स को ट्रोल करने से हमारा एजुकेशन सिस्टम सुधर जाएगा ?

Published by
STP Hindi Editor

जिस दिन सीबीएसई (CBSE) क्लास XII के रिजल्ट्स जारी करता है, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर मानो ट्रॉल्स और मीम्स की बारिश हो जाती है। कल ही खबर आयी की लखनऊ की एक 18 वर्ष की छात्रा दिव्यांशी जैन 600/600 स्कोर करके बोर्ड टॉपर बनी। और जैसा की अनुमान लगाया जा सकता है, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर लोगों ने उसे अपने ट्रॉल्स का शिकार बना दिया।

यह हर साल होने लग गया है। इन टॉपर्स को लोगों के भद्दे कमैंट्स और सर्कास्म से झूझना पड़ता है। सोचिये अगर दिव्यांशी जैन सोशल मीडिया चेक करे तो उसे अपना चेहरा और उसके नीचे लिखे कमैंट्स पढ़कर कैसा लगेगा? इससे उस लड़की के मानसिकता पर क्या प्रभाव पड़ेगा? क्या उसका मनोबल नहीं टूटेगा ? क्या वो ये सब देखकर खुश होगी? या उसे लगेगा कि अच्छे अंक लाकर उसने कोई गलती कर दी है।

हमें ये भी सोचना चाहिए कि दिव्यांशी जैसे बच्चो को अगर इसी पुराने सिस्टम के नियमों का पालन करके अच्छे अंक लाने हैं तो इसमें उनका क्या कसूर है ?

इसके अलावा अगर लोगों के लिए इस बात को मानना मुश्किल है कि किसी छात्र के अंग्रेजी और इतिहास में भी १००/१०० अंक आये हैं तो उन्हें इंडियन एजुकेशन सिस्टम को दोष देना चाहिए जो बच्चों की बुद्धि और काबिलियत को सिर्फ मार्क्स से तोलता है। हम सभी जानते हैं कि १२वी में बोर्ड की परीक्षा किस तरह ली जाती है। अक्सर उत्तर पुस्तिकाएं ठीक से चेक नहीं होती हैं, परीक्षाओं के समय पर छात्रों पर ठीक से निगरानी नहीं राखी जाती और अंक सिर्फ उसे दिए जाते हैं जो ज़्यादा अच्छे से फैक्ट्स को याद कर पाता है। अक्सर बच्चे परीक्षा देने के कुछ दिनों में ही सब भूल जाते हैं और वो सब ज्ञान व्यर्थ हो जाता है।

और पढ़िए : लखनऊ की छात्रा दिव्यांशी जैन ने सीबीएसई परीक्षा में 100% अंक हासिल किये

हमें ये भी सोचना चाहिए कि दिव्यांशी जैसे बच्चो को अगर इसी पुराने सिस्टम के नियमों का पालन करके अच्छे अंक लाने हैं तो इसमें उनका क्या कसूर है ? ये बच्चे दिन रात एक कर देते हैं ताकि इनका रिजल्ट अच्छा आये और इनके माता पिता को इन पर गर्व हो। दिव्यांशी जैसे बच्चे अवश्य ही प्रशंसा के हकदार हैं।

एक जागरूक नागरिक होने के नाते मुझे लगता है कि हमें इन टॉपर्स को इनकी मेहनत के लिए इनकी सराहना करनी चाहिए और साथ ही साथ हमारे एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने के तरीके सोचने चाहिए

और ज़ाहिर सी बात है की ये मार्क्स सिर्फ टॉपर्स को अच्छे कॉलेज में दाखिला लेने के लिए चाहिए होते हैं और उसके बाद आपके लाइफ स्किल्स और स्मार्टनेस ही आपको आगे लेकर जाती है। इसलिए एक जागरूक नागरिक होने के नाते मुझे लगता है कि हमें इन टॉपर्स को इनकी मेहनत के लिए इनकी सराहना करनी चाहिए और साथ ही साथ हमारे एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने के तरीके सोचने चाहिए.

और पढ़िए: अनुष्का पांडा ने डिसेबल्ड कैटेगरी में 12 वी में टॉप कर 95.2 प्रतिशत अंक प्राप्त किये

Recent Posts

ऐश्वर्या राय की हमशक्ल ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, जानिए कौन है ये लड़की

आशिता सिंह राठौर जो हूँबहू ऐश्वर्या राय की तरह दिखती है ,इंटेरटनेट पर खूब वायरल…

57 mins ago

आंध्र प्रदेश सरकार 30 लाख रुपये की नगद राशि के इनाम से पीवी सिंधु को करेगी सम्मानित

शटलर पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मैडल जीतने पर आंध्र प्रदेश सरकार देगी…

2 hours ago

Justice For Delhi Cantt Girl : जानिये मामले से जुड़ी ये 10 बातें

रविवार को दिल्ली कैंट एरिया के नांगल गांव में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार…

2 hours ago

ट्विटर पर हैशटैग Justice For Delhi Cantt Girl क्यों ट्रैंड कर रहा है ? जानिये क्या है पूरा मामला

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में दिल्ली कैंट के पास श्मशान के एक पुजारी और तीन पुरुष कर्मचारियों…

3 hours ago

दिल्ली: 9 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, हत्या, जबरन किया गया अंतिम संस्कार

दिल्ली में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार किया गया, उसकी हत्या कर दी गई…

4 hours ago

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

18 hours ago

This website uses cookies.