Advertisment

Society को आपकी हर पसंद से समस्या क्यों होती है?

इश्यूज: समाज को हमारी हर पसंद से समस्या होने की वजह उसकी धारणाओं, सामाजिक मान्यताओं, और अनुभूतियों में विशेषता देखने के कारण होती है। जब हम अपनी चुनौतियों के अनुसार जीने की कोशिश करते हैं, तो कई बार हमें समाज की नाराजगी का सामना करना पड़ता है।

author-image
Trishala Singh
New Update
Society having issues

(Credits: Pinterest)

Why Does Society Get Upset with Our Every Decision: समाज एक ऐसी संरचना है जो नियमों, मानदंडों और धारणाओं के आधार पर काम करता है। समाज के लोगों का यह मानना होता है कि हर व्यक्ति को इन्हीं नियमों और धारणाओं का पालन करना चाहिए। लेकिन जब कोई व्यक्ति अपनी स्वतंत्र पसंद और निर्णय लेता है, जो समाज के स्थापित मानकों से भिन्न होता है, तो समाज को इससे समस्या होती है। आइए समझते हैं कि समाज को आपकी हर पसंद से समस्या क्यों होती है:

Advertisment

Society को आपकी हर पसंद से समस्या क्यों होती है?

1. परंपराओं और मान्यताओं का उल्लंघन (Violation of Traditions and Beliefs)

समाज की सोच और परंपराएं अक्सर स्थिर होती हैं। वे बदलाव से डरती हैं और नए विचारों को अपनाने में कठिनाई महसूस करती हैं। जब कोई व्यक्ति अपने फैसले से इन परंपराओं का अतिक्रमण करता है, तो समाज इसे अस्वीकार कर देता है। उदाहरण के लिए, अगर एक लड़की शादी की उम्र को लेकर पारंपरिक धारणाओं के खिलाफ जाती है या शादी से पहले करियर पर ध्यान केंद्रित करती है, तो समाज को यह पसंद नहीं आता।

Advertisment

2. नियंत्रण की भावना (Sense of Control)

समाज अक्सर लोगों के जीवन को नियंत्रित करने की कोशिश करता है। यह नियंत्रण की भावना समाज को शक्ति और स्थिरता का अहसास दिलाती है। जब कोई व्यक्ति अपनी स्वतंत्र पसंद करता है, तो यह समाज के नियंत्रण को चुनौती देता है। यह समाज के लिए असहज होता है क्योंकि इससे उसकी शक्ति और स्थिरता को खतरा महसूस होता है।

3. असुरक्षा की भावना (Feeling of Insecurity)

Advertisment

समाज के लोग अक्सर असुरक्षा की भावना से ग्रस्त होते हैं। वे बदलाव और नवीनता से डरते हैं। जब कोई व्यक्ति अपनी पसंद और निर्णयों के माध्यम से नवीनता लाता है, तो यह समाज के लोगों की असुरक्षा को बढ़ा देता है। उदाहरण के लिए, अगर कोई व्यक्ति पारंपरिक व्यवसाय छोड़कर कला या संगीत में करियर बनाना चाहता है, तो समाज इसे अस्वीकार करता है क्योंकि यह उनके लिए असुरक्षित और अज्ञात होता है।

4. सामाजिक मानदंडों का उल्लंघन (Violation of Social Norms)

समाज के कुछ मानदंड और नियम होते हैं जिनका पालन करना हर व्यक्ति से अपेक्षित होता है। जब कोई व्यक्ति इन मानदंडों का उल्लंघन करता है, तो समाज इसे गलत समझता है। यह उल्लंघन समाज को अस्थिर करता है और उसे इस विचार के प्रति विरोधी बनाता है कि लोग अपने निर्णय खुद ले सकते हैं।

Advertisment

5. सामूहिक सोच (Collective Thinking)

समाज अक्सर सामूहिक सोच पर आधारित होता है। इसमें लोग एक जैसी सोच और धारणाएं रखते हैं। जब कोई व्यक्ति इस सामूहिक सोच से हटकर कुछ अलग सोचता है या करता है, तो यह समाज के लिए असहनीय हो जाता है। यह व्यक्ति की स्वतंत्र सोच और निर्णय को चुनौती देता है और समाज को अस्थिर करता है।

6. परिवर्तनों का भय (Fear of Change)

Advertisment

परिवर्तन से डरना समाज का स्वाभाविक स्वभाव होता है। समाज को नए विचारों और परिवर्तनों को स्वीकारने में कठिनाई होती है। जब कोई व्यक्ति अपनी पसंद और निर्णय से समाज के पारंपरिक ढांचे को चुनौती देता है, तो समाज को इससे भय महसूस होता है। यह परिवर्तन समाज की संरचना को प्रभावित करता है और उसे अस्थिर बना सकता है।

7. व्यक्तिगत आजादी का विरोध (Opposition to Personal Freedom)

समाज अक्सर व्यक्तिगत आजादी के खिलाफ होता है। यह मानता है कि हर व्यक्ति को सामूहिक धारणाओं और मान्यताओं का पालन करना चाहिए। जब कोई व्यक्ति अपनी आजादी और स्वतंत्र पसंद के लिए खड़ा होता है, तो यह समाज के लिए असहनीय होता है। यह व्यक्तिगत आजादी समाज के सामूहिक दृष्टिकोण को चुनौती देती है और उसे अस्थिर करती है।

समाज को आपकी हर पसंद से समस्या इसलिए होती है क्योंकि यह उसके स्थापित मानकों, धारणाओं और नियंत्रण की भावना को चुनौती देती है। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि हम अपनी पसंद और निर्णयों के लिए खड़े हों और समाज को यह समझाएं कि स्वतंत्रता और व्यक्तिगत पसंद महत्वपूर्ण हैं। यह बदलाव और प्रगति के लिए आवश्यक है कि हम समाज के परंपराओं और मान्यताओं को चुनौती दें और अपनी स्वतंत्र सोच और निर्णयों को अपनाएं। इस प्रकार, हम समाज को बदल सकते हैं और उसे अधिक समावेशी और स्वतंत्रता का सम्मान करने वाला बना सकते हैं।

Society समाज पसंद समस्या Every Decision
Advertisment