सोशल मीडिया गुस्से से भड़क गया है, गोड्डा (हजारीबाग, झारखंड के पास) के एक युवा मेडिकल छात्रा के लिए न्याय की मांग की जा रही है, जो लापता हो गयी थी और बाद में मृत पायी गयी थी। वह सुबह परीक्षा देने के लिए निकली थी, लेकिन कभी कॉलेज नहीं पहुंची। नीचे दी गई रिपोर्ट के अनुसार दिन में काफी देर के लिए उनका फोन बंद  था। उसकी माँ, जो आम तौर पर दोपहर के भोजन के समय उसके साथ बात करती थी, वो भी उससे बात नहीं कर पायी।

रिपोर्ट के अनुसार, पूजा भारती (25) हजारीबाग मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस प्रथम वर्ष की छात्रा थी। मंगलवार की सुबह उसका शव गांव पतरातू डैम में मिला। लड़की गोड्डा शहर थाना अंतर्गत लोहियानगर की रहने वाली थी। उसके हाथ और पैर रस्सी से बंधे थे और उसके गले में एक कपड़ा लपेटा हुआ था।

स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच गई और उन्होंने आसपास की दुकानों से कुछ जानकारी इकठा की है। हालांकि, उन्होंने अभी तक पुष्टि नहीं की है कि यौन उत्पीड़न हुआ था। इन्वेस्टीगेशन जारी है।

और पढ़ें: पत्नी ने पति को उत्तर प्रदेश में 50 से अधिक बच्चों का यौन-शोषण करने में मदद की

लड़की गोड्डा शहर थाना अंतर्गत लोहियानगर की रहने वाली थी। जब वह लापता हो गई तो परिवार और दोस्तों ने शिकायत की। बाद में उसका शव पास के पतरातू डैम में मिला। कुछ रिपोर्टों में दावा किया गया है कि लड़की का शरीर बंधा हुआ था, यह दर्शाता है कि घटना के लिए और भी कुछ हो सकता है।

यौन उत्पीड़न होने की पुष्टि अभी तक नहीं हुई है। जांच चल रही है।

पूजा भारती के पिता का कहना है कि उनकी बेटी की हत्या कर दी गई है, और उसके ही कॉलेज के सहपाठी ने ऐसा किया है। और वह अपनी बेटी के लिए न्याय मांग रहे है।

दूसरी ओर, खबर का खुलासा करने के बाद, गुरुवार को ट्विटर के एक वर्ग ने इसे #JusticeForPujaBharti के साथ ट्रेंड किया है और मासूम लड़की के लिए न्याय चाहता है।

मेडिकल की छात्रा आकांक्षा ने पिछले साल ही हजारीबाग कॉलेज में एडमिशन लिया था।

और पढ़ें: दहेज प्रथा अभी भी एक खतरनाक सच्चाई क्यों है?

Email us at connect@shethepeople.tv