Priyanka Gandhi On Hijab Row: प्रियंका ने कहा कि "बिकिनी, घूंघट, जीन्स या हिज़ाब" महिला को क्या पहनना है यह उसका अधिकार है

Priyanka Gandhi On Hijab Row: प्रियंका ने कहा कि "बिकिनी, घूंघट, जीन्स या हिज़ाब" महिला को क्या पहनना है यह उसका अधिकार है Priyanka Gandhi On Hijab Row: प्रियंका ने कहा कि "बिकिनी, घूंघट, जीन्स या हिज़ाब" महिला को क्या पहनना है यह उसका अधिकार है

SheThePeople Team

09 Feb 2022


Priyanka Gandhi On Hijab Row: हिजाब कंट्रोवर्सी जैसे कि आपको पता ही अभी हाल फ़िलहाल में बढ़ती जा रही है। इसको लेकर अब कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी प्रियंका वाड्रा ने भी अपना कमेंट किया। इन्होंने लिखा कि महिला को क्या पहनना है यह उसका खुद का अधिकार होता है और यह अधिकार उन्हें इंडियन कंस्टीटूशन ने दिया है, इसलिए लड़कियों को हरास करना बंद करें।

प्रियंका गाँधी ने हिजाब कंट्रोवर्सी को लेकर क्या कहा?

प्रियंका वाड्रा ने कहा कि "बिकिनी, घूंघट, जीन्स या हिज़ाब" महिला को क्या पहनना है यह उसका अधिकार होता है। यह मैटर अभी बहुत न्यूज़ में है और इसको लेकर सभी लोग अलर्ट हैं। शिक्षा और रिलिजन के बीच बच्चे इस चंगुल में फसे हुए हैं। इसको लेकर पाकिस्तानी एक्टिविस्ट मलाला युसुफ़ज़ई ने भी अपना पॉइंट रखा और कहा “”हिजाब की वजह से मुस्लिम लड़कियों को कॉलेज में एंट्री न देना डरावना है”।

मलाला का कहना है कि इंडियन लीडर्स को मुस्लिम महिलाओं को हलके में नहीं लेना चाहिए और महिलाओं को कपडों को लेकर आवाज उठाना अभी भी कायम है चाहे फिर वो कम कपड़ों को लेकर हो या फिर ज्यादा पहनने के कारण। मलाला के इस ट्वीट पर BJP के MLA और पार्टी के नेशनल जनरल सेक्रेटरी CT रवि बोले कि यह MOOLAH कौन है जो इंडिया के इंरेरनाल अफेयर में बात कर रही हैं? इनको अपनने बुरखे के अंदर छुपकर नहीं रहना चाहिए?

क्या है उडुपी हिजाब कंट्रोवर्सी?

उडुपी के कॉलेजेस की महिला स्टूडेंट्स हिजाब पहनकर कॉलेज आना चाहते थे लेकिन इनको एंट्री नहीं दी गयी थी। इसको लेकर कर्णाटक में कल ज्यादा दंगे भी हुए जिसके कारण से तीन दिन के लिए सभी कॉलेजेस को फ़िलहाल बंद कर दिया गया था।  हिजाब को लेकर आज दिल्ली यूनिवर्सिटी में भी विरोधप्रदर्शन किया गया। यहाँ के मुस्लिम स्टूडेंट्स फेडरेशन ने अपना सपोर्ट कर्नाटक के मुस्लिम स्टूडेंट्स को दिया जिनको क्लासेज अटेंड नहीं करने दी गयी थीं।

दिल्ली यूनिवर्सिटी का यह प्रोटेस्ट नार्थ कैंपस के आर्ट्स फैकल्टी की तरफ हुआ। इस में 50 बच्चे मौजूद थे और इस में महिलाएं हिजाब पहनकर आयी थीं सपोर्ट दिखाने के लिए। इन्होंने कई बोर्ड भी बनाए थे जिन पर लिखा था हम मोहम्मद के लोग कर्नाटक के बच्चों के साथ मिलकर इस नफरत से लड़ेंगे।


अनुशंसित लेख