Advertisment

Budget 2024: क्या 'लखपति दीदी' लक्ष्य बनाएगा ग्रामीण महिलाओं को आत्मनिर्भर?

फाइनेंस: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की है कि आगामी वित्तीय वर्ष के लिए "लखपति दीदी" योजना का दायरा 2 करोड़ से बढ़ाकर 3 करोड़ महिलाओं तक कर दिया गया है। जानें अधिक इस ब्लॉग में -

author-image
Vaishali Garg
एडिट
New Update
Budget discussion

What Is Lakhpati Didi Scheme : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने अपने बजट 2024 पेश करते समय घोषणा की कि सरकार की "लखपति दीदी" योजना इस साल से 1 करोड़ अधिक महिलाओं को लक्षित करेगी। सीतारमण ने कहा कि लक्ष्य को 2 करोड़ महिलाओं से बढ़ाकर 3 करोड़ महिलाओं तक कर दिया गया है। "83 लाख स्वयं सहायता समूह 9 करोड़ महिलाओं के साथ सशक्तिकरण और आत्मनिर्भरता के साथ ग्रामीण सामाजिक-आर्थिक परिदृश्य को बदल रहे हैं। उनकी सफलता ने लगभग 1 करोड़ महिलाओं को पहले ही 'लखपति दीदी' बनने में मदद की है। वे दूसरों के लिए प्रेरणा हैं। उनकी उपलब्धियों को सम्मानित कर पहचाना जाएगा," सीतारमण ने संसद के समक्ष कहा।

Advertisment

केंद्रीय बजट 2024 (Union Budget 2024) ने महिला सशक्तिकरण पर जोर दिया, खासकर कार्यबल, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा के क्षेत्र में। ये योजनाएं विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं की सहज प्रतिभा को पहचानकर उन्हें वित्तीय स्वतंत्रता और सम्मान के साथ जीवन प्रदान करने का लक्ष्य रखती हैं।

'लखपति दीदी' योजना क्या है?

"लखपति दीदी" योजना अगस्त 2023 में ग्रामीण महिलाओं को अपने समुदायों में सूक्ष्म उद्यम शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई थी। इस कार्यक्रम का उद्देश्य स्वयं सहायता समूहों (SHG) के प्रत्येक घर की महिलाओं को प्रशिक्षित करना है ताकि वे कम से कम 1 लाख रुपये प्रति वर्ष की टिकाऊ आय अर्जित कर सकें और उन्हें 'लखपति दीदी' बना सकें।

Advertisment

इस योजना के साथ, SHG की महिलाओं को विभिन्न व्यावसायिक कौशल जैसे ड्रोन संचालन, प्लंबिंग, सिलाई, बुनाई या एलईडी बल्ब बनाने में प्रशिक्षित किया जाता है। यह योजना महिलाओं को उनके मौजूदा कौशल को निखारने में भी मदद करती है और उन्हें उद्यमी बनने और जीवनयापन करने के लिए मार्गदर्शन देती है। एक बार वे 'लखपति दीदी' बन जाती हैं, वे अन्य नई महिलाओं को प्रशिक्षित करती हैं।

लखपति दीदी योजना का नया लक्ष्य कैसे पूरा होगा?

अंतरिम बजट 2024-25 के अनुसार, योजना का प्रारंभिक लक्ष्य 2 करोड़ 'लखपति दीदी' था जिसे सरकार ने अब एक और करोड़ तक बढ़ा दिया है। सीतारमण के अनुसार, देश भर में लगभग 83 लाख SHG हैं जो लगभग 9 करोड़ महिलाओं के जीवन को बदल रहे हैं। इन सूक्ष्म वित्तपोषण समूहों ने कई ग्रामीण महिलाओं को वित्तीय स्वतंत्रता के करीब एक कदम आगे बढ़ाया है।

Advertisment

हाल ही में उत्तर प्रदेश की एक रैली में, वाराणसी की एक 'लखपति दीदी' ने अपने सशक्तिकरण की यात्रा के बारे में एक सम्मोहक भाषण दिया, जिसने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को भी प्रभावित किया। महिला, चंदा देवी, ने कहा कि वह सब्जी उगाने का उद्यम शुरू करने के लिए 15,000 रुपये का शुरुआती कर्ज लेने में सक्षम थी।

इसके साथ, वह न केवल लोन चुका पाने में सफल रही, बल्कि 1.3 लाख रुपये की वार्षिक बचत के साथ अपने परिवार की रहन-सहन स्थितियों में भी सुधार किया। चंदा देवी की तरह, कई अन्य महिलाओं को भी निखरे कौशल और सूक्ष्म वित्तपोषण से लाभ मिला है। वित्त मंत्री ने अपने भाषण में कहा कि योजना शुरू होने के बाद से भारत 1 करोड़ 'लखपति दीदी' बनाने में सफल रहा है।

महिला सशक्तिकरण की उम्मीद

Advertisment

भारतीय समाज में, खासकर ग्रामीण समुदाय में महिलाओं की कार्यबल में भागीदारी लंबे समय से विवाद का विषय रही है। हालांकि कई अन्य कम-चर्चित कारक - लैंगिक वेतन अंतर, सीमित महिला-अनुकूल स्वास्थ्य सेवा, सीमित बाल देखभाल आदि - महिलाओं की कम भागीदारी में योगदान करते हैं, ऐसी योजनाएं आशा की एक झलक पेश करती हैं। 2024-25 के लिए 3 करोड़ 'लखपति दीदी' का विस्तारित लक्ष्य कम आय वाले परिवारों के साथ-साथ महिलाओं की आत्माओं को भी उन्नत कर सकता है, क्योंकि उन्हें वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त होती है।

आने वाली चुनौतियाँ

हालांकि योजना का लक्ष्य बढ़ाना एक सकारात्मक कदम है, लेकिन इसे जमीनी स्तर पर लागू करने में कई चुनौतियाँ हैं। सबसे पहले, आवश्यक कौशल प्रशिक्षण और उद्यमिता मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए पर्याप्त बुनियादी ढांचे और प्रशिक्षित कर्मियों की कमी है। दूसरा, ग्रामीण बाजारों में उत्पादों और सेवाओं के लिए सीमित बाजार पहुंच एक बाधा है। तीसरा, महिला उद्यमियों को वित्तीय सहायता तक पहुंचने में कठिनाई होती है।

Nirmala Sitharaman Union Budget 2024 Budget 2024 Lakhpati Didi Scheme
Advertisment