दुनिया की सबसे बुज़ुर्ग महिला, केन तनाका, जिनकी आयु 118 वर्ष है, वे मई में जापान में आयोजित होने वाले ओलंपिक मशाल को जलाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। एक बार नहीं, बल्कि दो बार कैंसर की घातक बीमारी को मात दे चुकी है, और दो वैश्विक महामारियों का भी डटकर सामना किया है। केन तनाका कौन है

CNN के साथ हाल ही में एक इंटरव्यू में, केन तनाका ने कहा कि उनके परिवार ने उन्हें जनवरी में अपने जन्मदिन पर इस कार्यक्रम के लिए स्नीकर्स (sneakers) की एक नई जोड़ी गिफ्ट में दी थी। उनके पोते, इजी तनाका, जो 60 के दशक में हैं, ने कहा कि वह चाहते हैं कि अन्य लोग प्रेरित महसूस करें, और यह जान लें कि जब वे तनाका की सक्रिय जीवनशैली को देखते हैं तो उम्र कोई बाधा नहीं है।

सबसे पुराने ओलंपिक मशालधारियों के लिए पिछले रिकॉर्ड धारकों में ब्राजील के आइडा जेमन्के शामिल हैं, जिन्होंने 106 साल की उम्र में 2016 के रियो समर गेम्स में मशाल जलाई थी, और टेबल टेनिस खिलाड़ी अलेक्जेंडर कप्तारेंको, जो 2014 में Sochi Winter Games में मशाल के साथ 101 साल की उम्र में दौड़े थे।

केन तनाका कौन है?

  • तनाका का जन्म 1903 में हुआ था। 19 साल की उम्र में उन्होंने चावल की दुकान के मालिक से शादी की और उनके चार बच्चे है। वह 103 साल की होने तक पारिवारिक स्टोर में काम करती थी।
  • तनाका दो विश्व युद्ध और 1918 स्पेनिश फ्लू से बची है, हालांकि उसके पोते इजी ने कहा, “मुझे अतीत के बारे में ज्यादा याद नहीं है … वह बहुत आगे की सोच रही है, वह वास्तव में वर्तमान में जीने का आनंद लेती है। ”
  • एक आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि, तनाका उतने वर्ष ही पुराणी है जितना पुराना आधुनिक ओलंपिक खेल है, जो 1896 में शुरू हुआ था, और इस साल का ओलंपिक उसके जीवनकाल का 49 वां होगा।
  • वर्तमान में, वह एक नर्सिंग होम में रह रही है जहाँ वह आम तौर पर सुबह 6 बजे उठती है और रणनीतिक बोर्ड गेम, ओथेलो खेलने का आनंद लेती है।
  • तनाका का परिवार पिछले 18 महीनों से उससे मिलने की कोशिश कर रहा था, लेकिन COVID-19 महामारी के कारण वे उसे नहीं देख सकते थे।
Email us at connect@shethepeople.tv