Marrying a rich man: अच्छी ज़िंदगी के लिए अमीर लड़के से शादी करना?

Swati Bundela
27 Sep 2022
Marrying a rich man: अच्छी ज़िंदगी के लिए अमीर लड़के से शादी करना?

लड़कियों की शादी की बात तब से शुरू हो जाती है जब वह जवान होने लगती है। घर वाले कहने लगते है इसकी शादी हो जाए और हमारी भी परेशानी ख़त्म हो। अब बस देख रहे कोई अच्छा, कमाता लड़का मिल जाए बस इसकी शादी कर दे।क्या लड़की की ज़िंदगी का मतलब बस एक अच्छे कमाते या अमीर लड़के से शादी करना है? क्या उसकी अपनी कोई पहचान नहीं है? क्या यह नहीं हो सकता हम कहे लड़के को तुमारे लिए एक अच्छी, कमाती लड़की मिल जाए तो परेशानी दूर हो जाए।

क्या लड़की की ज़िंदगी का मक़सद शादी करना है?

हमारे समाज घरवाले, समाज और रिश्तेदारों का एक ही मक़सद होता है लड़की की शादी कराना। रिश्तेदार कहने लगते है अगर अमीर घर में शादी हो गई तो तुमारी तो ऐश है कोई फ़िक्र नहीं राज करोगी राज। क्या लड़की को जीवन में और कोई काम नहीं है? क्यों समाज लड़की को यह समझता है कि शादी करना ही लड़की के जीवन का असली मनोरथ है।

लड़की की खुद की भी पहचान है

हमारा समाज लड़की को कभी पिता, भाई और पति से बुलाता है। क्या उसकी अपनी पहचान नहीं है।अगर उसकी शादी किसी अमीर लड़के से हो भी जाती है तो यह उसकी पहचान नहीं उसकी पहचान कुछ और है जिसको समाज ने कभी बनने नहीं दिया या फिर बीच में रोक दिया।एक लड़की चाहे कुछ भी कर सकती है उसको शादी तक सीमत ना रखे।

क्या लड़की अमीर नहीं हो सकती 

क्या ज़रूरी है कि लड़की को अच्छी लाइफ़ जीने के लिए रिच लड़के से शादी करनी पढ़ेगी? लड़कियाँ इतनी सक्षम होती है वे अपनो पैरों पर खड़े हो सकती है। अपनी इच्छायें पूरी कर सकती है।इतना ही नही वे अपने परिवार को भी पाल सकती है।ज़रूरी नहीं उन्हें अपनी हर चीज़ लिए मर्द पर निर्भर होना पढ़े।

क्या लड़कियाँ सिर्फ़ पैसों के लिए शादी करती है

समाज लड़कियों को गोल्ड डिगर कहता है।वे सिर्फ़ इसलिए शादी या रिलेशनशिप में होती है क्योंकि इनको पैसा चाहिए। पहली बात लड़कियाँ इतनी सक्षम होती कि वे अपने खर्च खुद उठा सके।दूसरा अगर आप अपनी माँ को देखेंगे तो कितनी गोल्ड डिगर है? सारी ज़िंदगी उन्होंने बिना शिकायत के निकाल दी होगी। कभी किसी चीज़ की शिकायत नहीं की होगी।

लड़कियों को यह कहना छोड़ दीजिए की अच्छी ज़िंदगी के लिए अमीर लड़के से शादी करलो। इसके उलट उन्हें सक्षम बनाए, उन्हें अच्छे से पढ़ाई करवाए। अगर वे पढ़ाई करना चाहती है तो उनको करने दे ऐसे उसे मर्द पर निर्भर मत बनाए। इससे मर्द को होंसला मिलता है औरतों के चीज़ समझने का या फिर उन्हें कंट्रोल करने है। अगर औरत आत्म-निर्भर है तो मर्द को भी पता होगा कि यह भी  अपनो पैरो पर सक्षम है तो वह उसके साथ ग़लत करने से पहले एक बार ज़रूर सोचेगा।

अनुशंसित लेख